10 माह पहले पट्टा जारी किया,15 दिन से कोई कार्रवाई नहीं

—जिनके नाम पट्टा जारी हुआ, उनके खिलाफ दर्ज कराई उपायुक्त ने प्राथमिकी
—जेडीए में जिन लोगों ने पट्टा जारी किया उन पर अब तक नहीं हुई कोई कार्रवाई

By: Ashwani Kumar

Published: 21 Aug 2021, 06:23 PM IST

जयपुर. अजमेर रोड स्थित वृंदावन विहार कॉलोनी के सुविधा क्षेत्र में पट्टा जारी करने से जेडीए जोन—05 के अधिकारी सवालों के घेरे में है। भले ही जोन की ओर से उपायुक्त नानूराम सैनी कह रहे हैं कि पट्टा जारी नहीं किया गया। लेकिन सच्चाई यह भी है कि 10 माह पहले 12 अक्टूबर, 2020 को जेडीए ने पुखराज उर्फ सुमनदेवी के नाम से पट्टा जारी कर दिया।
फर्जी तरीके से पट्टा जारी होने के बाद जेडीए ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है। उपायुक्त ने कोई कार्रवाई नहीं की। जबकि, मौके पर जिस व्यक्ति के नाम पट्टा जारी किया है, उसने निर्माण कार्य तक शुरू करवा दिया। बांउड्रीवाल को क्षतिग्रस्त कर दिया और निर्माण सामग्री तक सड़क पर डाल रखी है।

एटीपी और जेईएन शक के दायरे में
—एटीपी ने रिपोर्ट गलत रिपोर्ट पेश की। कॉलोनी के नक्शे में सुविधा क्षेत्र के लिए जमीन चिन्हित है। उसके बाद भी उसे 125—ए का नाम देकर नया भूखंड सृजित कर दिया। इसके बाद जेईएन की मौका रिपोर्ट दी। इसके बाद जोन उपायुक्त ने पट्टा जारी कर दिया।
—छह अगस्त को पहली बार विकास समिति के लोगों ने जेडीए में आकर शिकायत की। 15 दिन बीत जाने के बाद भी अब तक अतिक्रमण करने वाले और गलत पट्टा जारी करने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है।


गांधी नगर में दर्ज करवाया मुकद्दमा
पत्रिका में खबर प्रकाशित होने के बाद जेडीए अधिकारी हरकत में आए। जोन—05 के उपायुक्त नानूराम सैनी की ओर से प्रेसनोट जारी किया गया। इसमें गांधी नगर थाने में पुखराज उर्फ सुमनदेवी पत्नी अरविंद चौधरी के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज करवाने क बात कही है। उपायुक्त ने बताया कि द जयपुर वाल्मीकि गृह निर्माण सहकारी समिति लिमिटेड की वृंदावन विहार कॉलोनी में भूखंड संख्या 125 और 126 के बीच जो जमीन है वह राजकीय है और सुविधा क्षेत्र है। इस जमीन पर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सुविधा क्षेत्र का कूटरचित पट्टा बनवाया गया है।

Ashwani Kumar Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned