Rajasthan Govt : कब तक जंजीरों में रहेंगे Sculpture, देखिए मामला क्या है

- जंजीरें खोलने का जेडीए और पुलिस (Jaipur Police) का नहीं है कोई प्लान

जयपुर। राजधानी जयपुर में जयपुर विकास प्राधिकरण और पुलिस चोरों से किस कदर खौफजदा है। इसकी बानगी देखने को मिल रही है राजधानी के वीवीआइपी चौराहे रामबाग सर्किल (Rambagh Circle) पर। चोरी के डर से 3 करोड़ रूपए के सौंदर्यीकरण प्रोजेक्ट के तहत लगाई गई कलाकृतियां जंजीरों में जकड़ी है। चोरों के डर का आलम ये है कि 2 साल बाद भी जेडीए और जयपुर पुलिस कलाकृतियों (Indian Sculpture) की बेड़ियों का ताला खोलने की हिम्मत नहीं जुटा पाए हैं।

24 घंटे सीसीटीवी सर्विलांस, फिर भी डर
शहर का रामबाग सर्किल 24 घंटे पुलिस निगरानी और सीसीटीवी (CCTV) कैमरे की मॉनिटरिंग में रहता है। इसके बावजूद शहर के वीवीआइपी चौराहे से कलाकृति चोरी होने और चोर पकड़ने में पुलिस की नाकामी से जेडीए प्रशासन डर गया। रामबाग सर्किल पर लगे बाकी कलाकृतियां चोरी ना हो इसके लिए जेडीए ने सभी स्कल्पचर को बेड़ियों में जकड़कर ताला जड़ दिया। राजस्थान विधानसभा से एक किलोमीटर दूर और शासन सचिवालय से महज 500 मीटर दूरी पर स्थित रामबाग सर्किल पर ट्रेफिक पुलिस की गुमटी भी लगी हुई है। जहां पर अलसुबह से देर रात तक यातायात पुलिस के जवान तैनात रहते हैं। और रात के समय पुलिस चेतक वाहन इस इलाके की गश्त करता है।

2 साल बाद भी पुलिस खाली हाथ
जयपुर सौंदर्यीकरण प्रोजेक्ट के तहत राजस्थान विधानसभा, सचिवालय मार्ग और भवानी सिंह रोड पर 3 करोड़ रूपए खर्च करके ब्यूटीफिकेशन करवाया गया। इसी प्रोजेक्ट के तहत रामबाग सर्किल पर राजसी ठाठबाठ को दर्शाती हाथी घोड़े और बैण्डवादन की मुद्रा में कलाकृतियां लगवाई गईं। लेकिन वर्ष 2017 में एक कलाकृति चोरी हो गई। जेडीए ने इसकी रिपोर्ट पुलिस को दी, लेकिन आज तक चोरों का पता नहीं चला। पुलिस की नाकामी से डरे जेडीए ने चौराहे पर लगी सभी कलाकृतियों को बेड़ियों में जकड़ दिया। फिलहाल पुलिस इन कलाकृतियों की सुरक्षा का जिम्मा लेने को तैयार नहीं है, ऐसे में जेडीए भी बेड़ियां खोलने को तैयार नहीं है।

लोगों को होती है हैरानी
रामबाग सर्किल से गुजरने वाले पर्यटक और लोग कलाकृतियों को जंजीरों में जकड़ा देखकर हैरान होते हैं। साथ ही लौहे की बेड़ियां महंगी कलाकृतियों की खूबसूरती पर धब्बे जैसी लगती हैं। जयपुर ही संभवत: ऐसा शहर है जहां पर कलाकृतियों को बेड़ियों में बांधकर रखा गया है। राजस्थान समेत देशभर में ऐसी मिसाल शायद ही होगी, जहां पर बुतों को चोरों के डर से जंजीरों में जकड़ना पड़ा हो।

Pawan kumar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned