डायरी में लिख गया जीतू...अनुष्का के प्रेमी ने जान से मारने के लिए धमकाया

मृतक जीतू की डायरी ने बड़ा खुलासा किया, डायरी में जीतू ने अपनी पत्नी अनुष्का के प्रेमी का खुलासा किया और कहा कि शादी के बाद जान से मारने की धमकी दी।

By: Dinesh Gautam

Published: 24 May 2018, 07:51 PM IST

जयपुर
जिस मामले को चौमूं पुलिस अभी तक आत्महत्या मानकर जांच कर रही थी, अब उस मामले में मृतक जीतू उर्फ सुरेंद्र की एक डायरी ने बड़ा खुलासा किया है। घरवालों के हाथ लगी इस डायरी में जीतू ने अपनी पत्नी अनुष्का उर्फ आशा के प्रेमी का खुलासा किया और कहा कि शादी के बाद उसने जान से मारने की धमकी भी दी थी। आपको बताना चाहेंगे कि 3 मई की रात को अनुष्का के पीहर से कई लोग आए और झगड़ा किया था। उसके बाद जब वे चले गए तो जीतू की तबीयत खराब हो गई। परिजन जीतू को अस्पताल लेकर गए तो डॉक्टर्स ने जहर खाने से उसकी मौत हो जाने की जानकारी दी।

 

दरअसल फिल्मी पटकथा की तरह दिखने वाला पूरा मामला रामपुरा डाबड़ी के डाबड़ी गांव का है। 4 मई को सुरेंद्र उर्फ जीतू की जहर खाने से मौत हो गई, पुलिस इसे आत्महत्या मानकर जांच कर रही थी। घटना को दस दिन से अधिक गुजर जाने के बाद जब घर वाले उसके कमरे को संभाल रहे थे तो उनके हाथ जीतू की डायरी हाथ लगी, जिसमें उसने शादी से पहले और बाद की कई मामलों को लिखा हुआ था। डायरी के एक पन्ने में उसने पत्नी अनुष्का के खेजरोली निवासी एक व्यक्ति से प्रेम प्रसंग होना लिखा है। जिसमें लिखा है कि उसकी पत्नी के नाम से एक व्यक्ति का फोन आता था। कॉलकर्ता मुझे बार-बार धमकाता था। कहता था कि मेरे और आशा के बीच साढ़े चार साल से संबंध है। इसके बीच में तू नहीं आना। यदि आया तो नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहना।


पप्पूराम बुनकर ने बताया कि मेरे बेटे सुरेंद्र उर्फ जीतू का विवाह 24 सितंबर 2015 को सीकर में दीवराला के अन्नतपुरा निवासी अनुष्का उर्फ आशा से हुआ था। विवाह के बाद से अनुष्का और उसके पीहर के लोग अलग होकर रहने के लिए बेटे पर दबाव बनाने लगे। कुछ समय पहले बेटी की शादी के लिए दोनों को घर ले आया। तभी से वह परिवार के साथ रह रहा था। बीती 3 मई की रात को जीतू के ससुराल वाले चार—पांच व्यक्ति आए थे। 4 मई 2018 को सुबह पिता पप्पूराम मजदूरी पर चला गया। तब पीछे से जीतू का ***** विनोद, सुनील, उसका साडू टोडारायसिंह निवासी सोहनलाल, बीरदीचंद खंडेलवाल, प्रवीण आए और अनुष्का के साथ मिलकर झगड़ा-फसाद कर उसे जहरीला पदार्थ खिला दिया।

 

जीतू के ***** विनोद ने जीतू की मां के साथ भी मारपीट की। उसके थोड़ी देर बाद जीतू उल्टियां करने लगा। परिजन जीतू को लेकर चौमूं अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसकी मौत हो गई। परिजनों ने चौमूं थाना पुलिस पर मामले को दबाने का आरोप लगाते हुए डीसीपी अशोक गुप्ता को ज्ञापन सौंपा और डायरी में दर्ज आरोप बताते हुए अनुष्का और उसके पीहर वालों पर कार्रवाई करने की मांग की। उनका कहना है कि जांच अधिकारी बदला जाए और सभी तथ्यों को देखते हुए जांच की जाए।

Dinesh Gautam
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned