कराटे में गोल्ड दिलाने वाली विमला की सुध ली सरकार ने

झारखंड(jharkhand) की विमला मुंडा(vimla munda) ने कराटे में कई मेडल जीतकर प्रदेश का नाम रोशन किया। लेकिन इन दिनों उनकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब है। बमुश्किल वे परिवार का गुजारा कर पा रही हैं। वे कॉमर्स से ग्रेजुएट हैं लेकिन किसी तरह की कोई सरकारी नौकरी उनके पास नहीं है। कराटे में गोल्ड मेडल जीतने वाली विमला मुंडा रांची के कांके ब्लॉक में अपने नाना के पास रहती हैं।

By: Neeru Yadav

Published: 19 Oct 2020, 06:05 PM IST

जब विमला की जानकारी झारखंड के सीएम (jharkhand cm) हेमंत सोरेन (hemant soren) को मिली तो उन्होंने विमला की खराब आर्थिक स्थिति को गंभीरता से लिया है। सीएम ने उपायुक्त रांची को अविलंब मामले में संज्ञान लेने और खेल सचिव से समन्वय स्थापित कर विमला को हर तरह की मदद करने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि आगामी खेल नीति के क्रियान्वित होने पर खिलाड़ियों का भविष्य संवरेगा। इस पर रांची के उपायुक्त छवि रंजन ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को रिट्वीट(jharkhand cm hemant soren tweet) कर जानकारी दी है कि खेल विभाग द्वारा उन्हें जानकारी मिली है कि विमला मुंडा द्वारा सीधी नियुक्ति के लिए आवेदन दिया गया था। शॉर्टलिस्ट किये गये अभ्यर्थियों में विमला मुंडा का नाम शामिल है। वर्ष 2011 में विमला ने 34वें राष्ट्रीय खेलों में सिल्वर मेडल जीता था। परिवार में गरीबी होने के बावजूद उन्होंने खेलों में रूचि दिखाई। राज्य के लिए पदक जीते लेकिन वे आज भी सरकारी नौकरी के इंतजार में हैं ताकि अपने परिवार की स्थिति को सुधार सकें। लॉकडाउन के दौरान उन्होंने कई कराटे प्लेयर्स को कोचिंग देनी भी शुरू की, बाद में हालांकि उन्हें इसे भी बंद करना पड़ा।

Show More
Neeru Yadav
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned