राजस्थान: नड्डा बोले, 'आगे चलकर सरकार बननी है, संगठन मजबूत करना ज़रुरी', जानें 'गुरु मंत्र' की बड़ी बातें

नड्डा ने अपने उद्बोधन में कोरोना संकटकाल के दौरान केंद्र की मोदी सरकार और भाजपा संगठन के जनहित कायों का ज़िक्र किया। साथ ही आगामी कार्ययोजना को लेकर पार्टी नेताओं को एकजुट होकर आगे बढ़ने के निर्देश दिए। उन्होंने गहलोत सरकार को अकर्मण्य बताते हुए जमकर निशाने पर लिया।

By: nakul

Updated: 23 Aug 2020, 02:19 PM IST

उमेश शर्मा/ जयपुर।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आज प्रदेश भाजपा पदाधिकारियों और जिला अध्यक्षों को संबोधित कर ‘गुरु मंत्र’ दिया। उन्होंने अपने उद्बोधन में कोरोना संकटकाल के दौरान केंद्र की मोदी सरकार और भाजपा संगठन के जनहित कायों का ज़िक्र किया। साथ ही आगामी कार्ययोजना को लेकर पार्टी नेताओं को एकजुट होकर आगे बढ़ने के निर्देश दिए। उन्होंने गहलोत सरकार को अकर्मण्य बताते हुए जमकर निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि आगे चलकर हमारी सरकार बननी है, इसके लिए संगठन को मजबूत करना जरूरी है।

नड्डा के संबोधन से पहले जयपुर स्थित पार्टी मुख्यालय में प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी सतीश, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया और नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया भी मौजूद रहे। जब प्रदेश भर से सभी जिलाध्यक्ष सम्बंधित जिलों से ही वर्चुअल माध्यम से नड्डा के संबोधन कार्यक्रम से जुड़े। इनके अलावा केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, कैलाश चौधरी, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी नड्डा के संबोधन से वर्चुअल जुड़े।

नड्डा संबोधन की बड़ी बातें-

- राजस्थान शक्ति भक्ति और त्याग की भूमि, एक गौरवशाली इतिहास रहा है

- लॉक डाउन में कार्यकर्ता समाजसेवा में जुटा रहा

- सभी राजनीतिक दलों ने अपने को लॉक डाउन कर लिया, बीजेपी ने समाजसेवा का काम किया

- जनता की मेमोरी शॉर्ट होती है, लेकिन आपके काम को लंबे समय तक याद किया जाएगा

- गहलोत सरकार अकर्मण्य, लोगो को राहत पहुंचाने की बजाय विश्वासघात किया

- सरकार ने संकटकाल के दौरान राजनीति चमकाने का काम किया

- राज्य की सरकार ने नेपोटिज्म को बढ़ावा दिया है।

- प्रदेश में अपराध लगातार बढ़े हैं। महिलाओं पर 122 प्रतिशत अपराध बढे हैं।

- आंकड़े गहलोत सरकार की अकर्मण्यता और फैल प्रशासन का द्योतक है।

- हमें इस बात को जनता तक पहुंचाना है।

- सरकार ने जनता से बिजली का बिल नहीं बढाने की घोषणा की थी। फिर भी बिजली बिल बढ़ा दिया।

- एक महीने में जो घटनाक्रम हुआ वो प्रजातंत्र की धज्जियां उड़ाने का काम है।

- सीएम 18 महीने तक डिप्टी सीएम से नहीं मिले, उन्हें निकम्मा बताया।

- कोविड की लड़ाई में कोई 'मुग़ल-ए-आज़म' देख रहा था तो कोई इटालियन डिश बना रहा था।

- इधर हमारे नेता जनता की सेवा कर रहे थे

- अभी समझौता हुआ है, लेकिन इसका आधार क्या है ये कब तक चलेगा पता नहीं।

- गहलोत ने बीजेपी पर आरोप लगाने का कुत्सित प्रयास किया, ये बातें जनता के बीच रखनी होंगी।

- कोरोना काल मे भी भ्रष्टाचार चरम पर था, PPE किट में भी घपला किया गया।

- राजस्थान सरकार ने केंद्र के पैकेज की भी वाहवाही लूटने की कोशिश की है।

- हमारे कार्यकर्ताओं को 'आत्मनिर्भर अभियान' को समझना होगा। उद्यमियों को इससे जोड़ना होगा।

- रेहड़ी वालों को भी 10 हज़ार का लोन मिलेगा, हमें बैंक और इनके बीच सेतु का काम करना होगा।

- किसान क्रेडिट कार्ड को लेकर काम कार्य करना होगा।

- 1986 में शिक्षा नीति बनाई गई थी, लेकिन उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ, अब हमने आज़ाद शिक्षा नीति बनाई है।

- अब रट्टा मारकर कोई पास नहीं हो पाएगा, गरीब को भी अवसर मिलेगा।

- नई शिक्षा निति को पढ़ो और औरों को भी समझाओ।

- प्रधानमंत्री मोदी के कामों को जनता के बीच ले जाने की आवश्यकता है। हमारा कमिटमेंट लेवल हाई होना चाहिए।

- 52 हज़ार बूथ पर व्हाट्सएप ग्रुप बनने चाहिये, एक ग्रुप में 150 लोगों को जोड़ा जाना चाहिए, एक में स्थानीय बातें और एक में मोदी जी की बातें और वीडियो डाले जाएं।

- आगे चलकर हमारी सरकार बननी है, इसके लिए संगठन को मजबूत करना जरूरी है।

- राजस्थान की तस्वीर बदलने में पूरी ताकत से लगें।

पूनिया ने संगठन के कार्यों का दिया ब्यौरा

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के संबोधन से पहले प्रदेश संगठन के कार्यों और आगामी योजना का ब्यौरा पेश किया। उन्होंने बताया कि कोरोना संकटकाल के दौरान पार्टी गतिविधियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं ने जन सरोकारों की राजनीति की। पीएम केयर फण्ड में 50 करोड़ रुपए दिए जबकि आरोग्य सेतु एप 83 लाख फोन में डाउनलोड करवाए।

पूनिया ने कहा कि अभी प्रदेश में चार जिलों की कार्यकारिणी बनना बाकी है। वहीं 1 हज़ार 13 मंडल का गठन होना प्रक्रिया में है। 43 हज़ार बूथ की रचना हो चुकी है। जिला परिषदों में 33 में से 20 जगह बीजेपी के पास है। 9 हज़ार 852 में से 5 हज़ार 887 में बीजेपी के समर्थक सरपंच निर्वाचित हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा ने सरकार को विधानसभा में घेरने की पूरी तैयारी की थी, लेकिन अब सदन ज़्यादा लंबा नहीं चलेगा। पर फिर भी पार्टी सरकार को सोशल मीडिया के ज़रिये घेरेगी। और ज़रुरत हुई तो सड़क पर उतरकर भी अपना पक्ष रखा जाएगा।

ये है आज दिनभर का ‘मंथन’ कार्यक्रम

प्रदेश भाजपा मुख्यालय में आज दिनभर के लिए हलचलें बनी हुई हैं। भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक को कुल 4 सत्रों में बांटा गया। पहले सत्र में राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री सतीश और प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना का उद्बोधन हुआ। उन्होंने कार्य, कार्यकर्ता और समाज में भूमिका विषय पर अपने विचार रखे।

दूसरा सत्र राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के संबोधन का रहा। नड्डा ने वर्चुअल माध्यम से बैठक को संबोधित किया।

तीसरा सत्र दोपहर 2:45 से 3:30 बजे तक रखा गया है जिसमें संगठन महामंत्री चंद्रशेखर संबोधित करेंगे। वे कार्य विभाजन, कार्य योजना, क्रियान्वयन, कार्यपद्धति और आगामी कार्ययोजना पर विचार साझा करेंगे।

इसी तरह से चौथा और अंतिम सत्र दोपहर 4 बजे बाद शुरू होगा जिसमें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया प्रदेश के राजनीतिक मुद्दे और भाजपा की संघर्ष यात्रा पर अपनी बात रखेंगे।

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned