मेले में चरमराई व्यवस्थाए

श्रद्धालु बेहाल, कैलादेवी मेला

By: Mohan Murari

Published: 04 Apr 2019, 07:55 AM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर/करौली। उत्तर भारत का प्रसिद्व आस्थाधाम कैलादेवी मेले में तीसरे दिन ही प्रशासन की व्यवस्थाएं चरमराने से श्रद्धालु बेहाल हैं। हालात ये है कि मेले में धूल, धुआं, गंदगी और बिजली-पानी संकट बना हुआ है। कालीसिल नदी की सुरक्षा मां के भरोसे ही है। हालात ऐसे हैं कि गंगापुर सिटी मोड से कैलादेवी तक की क्षतिग्रस्त सड़क पर लगाई गई पाती उधड़ गई, जिससे वाहनों की रेलमपेल से धूल उड़ती रहती है। अधिकारियों ने कुछ स्थानों पर पानी डाल धूल पर काबू पाने का प्रयास किया, लेकिन इसमें सफलता नहीं मिल रही है। रास्ते में श्रद्धालुओं के टोले बीच सड़क पर ही चल रहे है। जानकारी के अनुसार तीन दिन में लगभग सात लाख श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। बस स्टैंड से कालीसिल नदी तक बदहाल रोडवेज बस स्टैंड से व्यवस्थाएं बदहाल नजर आती है। स्टैंड पर उड़ती धूल और गंदगी प्रशासन के दावों की पोल खोलती है। यहां पर यात्रियों के लिए पर्याप्त रूप से छाया के प्रबंध तक नहीं किए हैं। महिलाओं को छोटे-छोटे बच्चों के साथ धूप में खड़ा रहकर टिकट के लिए लाइन में लगना पड़ता है। आगरा, हिंडौन सिटी के लिए बुकिंग खिड़कियों का भी अभाव है। पानी के प्रबंध नहीं होने से श्रद्धालुओं को दुकानों से पानी खरीदना पड़ता है। स्टैंड के बाद कालीसिल नदी पहुंचे, जहां नदी रपर एनजीटी के आदेशों की अवेहलना पूरी तरह से पाई गई। नदी में समूचे कैलादेवी परिसर से गंदगी जा रही है। महिला श्रद्धालुओं के लिए बने स्नानघर पर ताला लटका हुआ था। नदी के तट पर बनाए गए शौचालयों से गंदगी भी नदी में पहुंच रही है। रास्तों में अतिक्रमण से भीड़ में फंसते श्रद्धालु मेले से पहले श्रद्धालुओं को राहत देने के लिए अस्थायी अतिक्रमणों को हटाने का दावा पंचायत व प्रशासन ने किया, लेकिन अतिक्रमण नहीं हट पाया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned