खाचरियावास की गडकरी से अपील, सेंट्रल मोटर व्हीकल एक्ट पर करें पुनर्विचार

रोड सेफ्टी काउंसिल की गुरूवार को दिल्ली में हुई बैठक में राज्य के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने सेंट्रल मोटर व्हीकल एक्ट का मामला उठाया।

नई दिल्ली/जयपुर। रोड सेफ्टी काउंसिल की गुरूवार को दिल्ली में हुई बैठक में राज्य के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने सेंट्रल मोटर व्हीकल एक्ट का मामला उठाया। खाचरियावास ने इस एक्ट को पूरी तरह जनविरोधी बताते हुए कहा कि इसमें जुर्माना राशि इतनी ज्यादा लगा दी गई हैं कि देश की 80 फीसदी जनता इस मोटर व्हीकल एक्ट के नाम से डरने लगी है।

खाचरियावास ने कहा कि सेन्ट्रल मोटर व्हीकल एक्ट अभी तक सिर्फ 8 राज्यों में लागू हुआ है। केन्द्र सरकार को उन लोगों का दर्द समझना पड़ेगा, जो इतनी अधिक पेनल्टी नहीं दे सकते। मोटर साईकिल, कार और ट्रक की कीमत से ज्यादा मोटर व्हीकल एक्ट की जुर्माना राशि रखी गई हैं। इससे ट्रेफिक पुलिस या फिर उड़न दस्तों को देखकर ही वाहन लेकर लोग भागेंगे तो उससे सड़क दुर्घटनाएं अधिक होंगी।


खाचरियावास ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से अपील की कि जनता की आवाज को समझकर आपको मोटर व्हीकल एक्ट पर पुनर्विचार करना चाहिए। खाचरियावास ने कहा कि वन नेशनन-वन टैक्स की केन्द्र सरकार की पॉलिसी पर कहा कि ये भी बिल्कुल गलत है।

इससे राज्यों के टैक्स के अधिकार कम हो जाएंगे, केन्द्र सरकार राज्यों के बकाया टैक्स पहले ही अदा नहीं कर रही है, इसलिए वन नेशन-वन टैक्स पॉलिसी से राज्यों को भारी नुकसान हो जाएगा। खाचरियावास ने कहा कि केन्द्र सरकार को ग्रामीण परिवहन सेवा के लिए और परिवहन सेवाओं को मजबूत करने के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध करानी चाहिए। हमें विश्वास है कि केन्द्र सरकार कोई भी पॉलिसी बनाने से पहले हमें विश्वास में लेकर काम करेगी।


परिवहन मंत्री ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए राजस्थान की 50 हजार पंचायतों में 5 लाख सड़क सुरक्षा अग्रदूत बनाए जा रहे हैं और प्रदूषण को मिटाने के लिए राजस्थान में हर माह की पहली तरीख को परिवहन विभाग में नो व्हीकल डे लागू किया गया है।गौरतलब है कि आज रोड सेफ्टी काउंसिल की दिल्ली में हुई बैठक में सभी राज्यों के परिवहन मंत्रियों ने अपने-अपने सुझाव केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गड़करी के समक्ष रखे।

firoz shaifi Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned