जानिए बारिश को लेकर टिटहरी ने क्या दिए संकेत....

Kamlesh Agarwal

Updated: 14 Jul 2019, 11:00:23 AM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

पूरा प्रदेश बारिश नहीं होने की वजह से परेशान है और मौसम विभाग की भविष्यवाणी पर निर्भर है आते जाते बादल देखकर लोग अनुमान लगा रहे हैं इसी बीच प्रकृति से बारिश को लेकर संकेत मिले हैं। यह संकेत इस पर टिटहरी से मिले हैं टिटहरी के अंडे देने के आधार पर बारिश का अनुमान लगाया जाता है इस बार जयपुर में टिटहरी ने अच्छी बारिश के संकेत दिए हैं।

ज्योतिषशास्त्र और मौसमविज्ञ आंकड़ों के आधार पर मौसम की भविष्यवाणी करते हैं..... वहीं प्रकृति में पाए जाने वाले जीव-जंतु भी भविष्य की सूचनाएं देने में पीछे नहीं हैं....लोकमान्यता के अनुसार टिटहरी द्वारा अंडे देना बारिश के लिहाज से शुभ संकेत माना जाता है। ग्रामीणों के मुताबिक जितने अंडे दिए जाते हैं उतने ही महीने बारिश होती है.....बारिश लेकर टिटहरी के अंड़े देने के स्थान पर अनुमान लगाया जाता है.... ऐसी मान्यता है कि टिटहरी ऊंचाई या खेत की मेढ़ पर अंडे रखे तो ज्यादा बारिश होने की संभावना रहती है....जयपुर प्रतापनगर में इस बार टिहटरी ने उंचाई पर चार अंड़े दिए हैं....ऐसे में माना जा रहा है कि इस बार चौमासे के चार महीने अच्छी बारिश होगी

वहीं प्रदेश में अब मानसून का फिर से सक्रिय होने का बेसब्री से इंतजार होने लगा है। कई दिनों से प्रदेश में बारिश का दौर थमा हुआ है और दिन और रात में लोग गर्मी,उमस से बेहाल हो रहे हैं। मौसम विभाग का कहना है कि राजस्थान में तीन दिन के इंतजार के बाद फिर मानसून की झमाझम शुरू होगी। मौसम केन्द्र के अधिकारियों का कहना है कि राजस्थान में मानसून के सक्रिय होने का ट्रेड अलग है। यहां मानसून 16 से 18 जुलाई के बीच ही पूरे राजस्थान में सक्रिय होता है। इस बार भी यही ट्रेंड दिख रहा है। पश्चिमी राजस्थान में 25 जुलाई के बाद मानसून के सक्रिय होने की संभावना है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned