खून की कमी ने ले ली युवती की जान

महात्मा गांधी अस्पताल का मामला, दिल की बीमारी और खून की कमी से भी पीडि़त थी युवती

By:

Published: 05 Dec 2015, 11:27 PM IST

जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल महात्मा गांधी में शनिवार को खून की कमी और इसके बाद खून की उपलब्धता में देरी के कारण एक युवती की जान चली गई। इस युवती को दिल की बीमारी थी, लेकिन खून की काफी कमी से समस्या और जटिल हो गई। द़ुर्लभ ए नेगेटिव रक्त अस्पताल मेें उपलब्ध था नहीं और काफी प्रयासों के बाद इस रक्त समूह के व्यक्ति की उपलब्धता हो पाई, लेकिन इससे पहले ही युवती के प्राण निकल गए।
लता पुत्री वलजी को एमजी अस्पताल के महिला वार्ड में शुक्रवार शाम को भर्ती कराया गया था। फिजीशियन डॉ. देवेश गुप्ता ने के मुताबिक युवती के हार्ट की बीमारी और खून की कमी थी। खून की कमी के कारण उसकी समस्या और भी बढ़ गई थी। इस कारण ही उसका देहांत हो गया।
प्रयास काम नहीं आए
रेड ड्रॉप संस्था के राहुल सराफ ने बताया कि उन्हें सुबह सूचना मिली कि युवती को 'एÓ निगेटिव खून की आवश्यकता है। पहले तो परिजनों ने कहा कि वे अपने स्तर पर रक्त की व्यवस्था कर लेंगे, लेकिन जब उनसे व्यवस्था न हुई तो हमने प्रयास किए। 'एÓ निगेटिव रक्त का दुर्लभ गु्रप है, इसलिए इसकी उपलब्धता में दिक् कत रहती ही है। इसके बावजूद व्यवस्था करवा ली थी ,लेकिन तब तक युवती का देहांत हो गया।
रजिस्टर में मौत दर्ज नहीं
युवती की मौत के कई घंटे बाद भी यह जानकारी रजिस्टर में अंकित नहीं की गई। यहां तक कि कर्मचारियों को ही नहीं पता था कि मरीज वार्ड में है कि नहीं। जब कर्मचारियों से मरीज के बारे पूछा गया तो उन्होंने ढूंढने का प्रयास किया और वार्ड में अनुपस्थित होना बताया। इस संबंध में पीएमओ डॉ.दीपक नेमा ने बताया कि युवती की हालत गंभीर थी। लेकिन उसकी मृत्यु की जानकारी अंकित न की गई हो एेसी संभावना नहीं है। हालांकि टिकट मेक यह जानकारी अंकित होगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned