एसीबी को मजबूत करने के लिए सरकार ने इन 19 अफसरों को सौंपी बड़ी जिम्मेदारी, 9 अफसर जयपुर के

19 अफसरों में से सबसे ज्यादा 9 अफसरों को जयपुर से इधर उधर किया गया है। उधर इन अफसरों के एसीबी में जाने से पहले एसीबी से करीब आधा दर्जन से ज्यादा अफसरों को पुलिस महानिदेशक के अधीन भेजा गया है। गौरतलब है कि वर्तमान में एसीबी में ही एक आरपीएस के जिम्मे एक साथ चार बड़े केस चल रहे हैं। इनमें सबसे बड़ा केस दौसा एसपी रहे मनीष अग्रवाल का है।

By: JAYANT SHARMA

Published: 28 Jan 2021, 01:18 PM IST

जयपुर
भ्रष्टाचार के लगातार बढ़ रहे मामलों में अनुसंधान की गति अपेक्षाकृत धीमी चल रही है। इसी के चलते अब एसीबी को स्पेशल 19 का सहारा दिया गया है। एसीबी में सीनियर लोक सेवकों के खिलाफ अनुसंधान करने वाले अफसरों की संख्या उतनी नहीं है जितनी होनी चाहिए, इसी के चलते अब एसीबी को पूरे प्रदेश के लिए 19 आरपीएस अफसर दिए गए हैं। ये अफसर पुलिस सेवा के साथ ही अन्य पुलिस एजेंसियों से जुडे रहे हैं।

जयपुर के भी कई सीनियर अफसर इसमें शामिल हैं। आरपीएस गोवर्धन लाल खटीक को प्रतापगढ, भोलाराम यादव को भीलवाड़ा, ललित किशोर शर्मा को जयपुर, महावीर सिंह को जालोर, बृजेश सोनी को अजमेर, गोपाल सिंह को बांरा, वंदना भाटी को जयपुर, इस्माइल खान को झुझुनूं, सुरेश चंद्र जांगिड को बीकानेर, राजपाल गोदारा को जयपुर, लक्ष्मण दास को अलवर, सतनाम सिंह को अजमेर, नरपत चंद को पाली, सुरेन्द्र कुमार शर्मा को सवाई माधोपुर, राजेन्द्र सिह नैन को जयपुर, विश्नाराम को जयपुर, अब्दुल आहद खान को टोंक, उमेश कुमार ओझा को उदयपुर सैकेंट एवं बजरंग सिंह को जयपुर लगाया गया है।

इन 19 अफसरों में से सबसे ज्यादा 9 अफसरों को जयपुर से इधर उधर किया गया है। उधर इन अफसरों के एसीबी में जाने से पहले एसीबी से करीब आधा दर्जन से ज्यादा अफसरों को पुलिस महानिदेशक के अधीन भेजा गया है। गौरतलब है कि वर्तमान में एसीबी में ही एक आरपीएस के जिम्मे एक साथ चार बड़े केस चल रहे हैं। इनमें सबसे बड़ा केस दौसा एसपी रहे मनीष अग्रवाल का है।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned