ई मित्र पर काम छोड़कर छापने लगा नकली नोट

5 लाख 80 हजार तीन सौ के नकली नोट और नोट छपाई के उपकरण बरामद

By: Lalit Tiwari

Published: 26 Jan 2021, 10:00 PM IST

करधनी थाना पुलिस ने नकली नोट छापने वाले एक युवक को गिरफ्तार किया हैं। पुलिस ने उसके कब्जे से 5 लाख 80 हजार के नकली नोट बरामद किए गए हैं। ये सभी 100 और 200 रुपए के नोट हैं। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह ईमित्र में नौकरी करता था। कलर प्रिंटिग के दौरान वहीं से उसे आइडिया आया और नौकरी छोड़कर प्रिंटर स्केनर के माध्यम से नकली
नोट छापने का काम शुरु कर दिया। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही हैं।
एडिशनल कमिश्नर अजयपाल लांबा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी रूपचंद मीणा उर्फ रूपी (25) मूलतः भरतपुर जिले की कुम्हेर तहसील का रहने वाला हैं और काफी समय से चंद्र विहार गांधी पथ करणी विहार में रह रहा था। सरना डूंगर चौकी के कांस्टेबल शंकर लाल को सूचना मिली थी कि जाली नोट छापे जा रहे है। 25 जनवरी को थाने से बिरजू सिंह हैड कांस्टेबल और
शंकर को नकली नोट के अवैध कारोबार से जुड़े संदिग्धों की निगरानी के लिए भिजवाया गया था। पुलिस ने मुखबिर से सूचना मिलने पर रुपचंद मीणा को कालवाड रोड पर दो लाख रुपए के नकली नोट के साथ गिरफ्तार कर लिया।

200, 500 और 100 के नकली नोट बरामद
पुलिस ने बताया कि आरोपी के पास से 200-200 रुपए के 500 नोट और 100-100 रुपए के 1 हजार नोट और दो लाख रुपए बरामद किए गए। पुलिस ने 26 जनवरी को उसके मकान चन्द्र विहार गांधी पथ पश्चिम करणी विहार जयपुर से 3 लाख 80 हजार 300 रुपए के नकली नोट और नकली नोट बनाने के उपकरण, प्रिंटर, टेप, नोट छपाई के उपयोग में आने वाले खाली
कागज जब्त किए।

भरतपुर में ई-मित्र का काम करता था आरोपी
पुलिस पूछताछ में रूपचंद मीणा ने बताया कि वह भरतपुर स्थित अपने गांव में ई मित्र पर काम किया करता था। जहां पर दुकान में कलर फोटो मशीन की ऑपरेटिंग करने के दौरान उसने स्केनर के माध्यम से नकली नोट छापने का उपाय दिमाग में आया। उसने दुकान पर काम छोड़कर अपने घर पर प्रिंटर स्केनर के माध्यम से नकली नोट छापने का काम शुरु कर दिया। आरोपी
रुपचंद छह महीने से नकली नोट छपाई और सप्लाई का काम कर रहा हैं।

Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned