जंगल से निकलकर जयपुर शहर के बीचों बीच पहुंची मादा लैपर्ड, कैमरे में हुई कैद

जंगल से निकलकर जयपुर शहर के बीचों बीच पहुंची मादा लैपर्ड, कैमरे में हुई कैद
वन विभाग के ट्रैप कैमरे में आई मादा पैंथर

Deepshikha | Publish: Sep, 20 2019 04:55:49 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

स्मृति वन में लैपर्ड, वन विभाग के ट्रैप कैमरे में नजर आई मादा लैपर्ड, लोगों में दहशत

जयपुर. लैपर्ड ( Leopard ) को इन दिनों जंगल से ज्यादा घनी आबादी पसंद आ रही है। यही वजह है कि लैपर्ड जंगल छोड़कर आबादी की तरफ आ रहे हैं। जयपुर में झालाना वन क्षेत्र से एक बार फिर लेपर्ड शहर के बीचों बीच क्षेत्र में चला आया है। कर्पूरचंद कुलिश स्मृति वन में मादा लैपर्ड दिखी। इससे वन विभाग में हडकंप मच गया। लेपर्ड का मूवमेंट लगातार आबादी के बीच हो रहा है।

इसके चलते वन विभाग चौकन्ना हो गया है। वन विभाग ने कर्पूरचंद कुलिश स्मृति वन में ट्रैप कैमरे लगाए। रेंजर जनेश्वर ने जानकारी दी कि ट्रेप कैमरे में मादा लैपर्ड कैद हुई है। पिछले सात दिनों में आबादी की ओर लेपर्ड का दिखने की तीसरी घटना है।

गौरतलब है कि बुधवार को कर्पूरचंद कुलिश स्मृति वन ( Kapoorchand Kulish Smriti Van ) में लेपर्ड के पग मार्क मिले। रेस्क्यू टीम ने यह पग मार्क देखे तो अन्य कर्मचारियों को लेपर्ड को ढूंढने के काम में लगा दिया है।

Read More : जयपुर शहर में बीच सड़क पर लेपर्ड, ललित कला अकादमी में किया शिकार, दहशत में आस-पास के निवासी

कर्पूरचंद कुलिश स्मृति वन को किया बंद

क्षेत्र में लेपर्ड के मूवमेंट के चलते लोगों में दहशत बनी हुई है। लैपर्ड के मूवमेंट के चलते वन विभाग चौकन्ना हो गया और सुरक्षा को देखते हुए रविवार से लोगों के लिए कर्पूरचंद कुलिश स्मृति वन ( Kulish Smriti Van ) को बंद कर रखा है।

बुधवार शाम को एमएनआइटी के पीछे की तरफ पहाड़ी पर पैंथर की सूचना मिली। इसके बाद वन विभाग की रेस्क्यू टीम पहुंची। यहां भी पिंजरा लगाया गया है। ललित कला अकादमी में पांच दिन पहले पैंथर दिखाई दिया था, जिसने वहां श्वान का शिकार किया था।

Read More : फिर जयपुर में सड़क पर आया लेपर्ड, स्मृति वन में मिले पगमार्क, एमएनआइटी में दिखने की सूचना, लोगों में दहशत

Read More : लेपर्ड की दहशत में जयपुर, नहीं आया पकड़ में, कर्पूरचंद कुलिश स्मृति वन को किया बंद

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned