कोटा के सांगोद में सबसे कम उम्र की कविता, दौसा के महवा में सबसे बुजुर्ग नर्बदा बनी निकाय प्रमुख

दस निकायों की कमान युवाओं के हाथ, तीन में 70 वर्ष से अधिक आयु के प्रमुख, महवा में सबसे उम्रदराज और सांगोद में सबसे कम उम्र महिला बनी निकाय प्रमुख

By: pushpendra shekhawat

Published: 27 Nov 2019, 08:15 AM IST

जया गुप्ता / जयपुर। प्रदेश के 49 निकायों में से दस निकायों में निकाय प्रमुख की सीट पर युवाओं ने भी कब्जा जमाया है। खास बात यह है कि दस में से सात महिलाएं हैं। वहीं तीन निकायों में 70 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति प्रमुख बने हैं। इनमें एक नगर निगम भी शामिल हैं।


ये है युवा टीम

वहीं कोटा जिले की सांगोद नगरपालिका में सबसे युवा अध्यक्ष बनी है। यहां 24 वर्षीय कविता सुमन भी निकाय प्रमुख की सीट हासिल की है। इसके अलावा मकराना में 26 वर्षीय महिला समरीन, खाटूश्यामजी में 29 वर्षीय ममता देवी, पिंडवाडा में तीस वर्षीय जितेंद्र कुमार, कानोड में 28 वर्षीय चंदा देवी, माउंट आबू में 30 वर्षीय जीतू राणा, झुंझुनूं में 25 वर्षीय नगमा बानो, चुरू में 29 वर्षीय पायल, मांगरौल में 27 वर्षीय कौशल कुमार, नसीराबाद में 27 वर्षीय शारदा मितरवाल अध्यक्ष बनी है।


यहां कमान उम्रदराज व्यक्तियों को
दौसा जिले की महवा नगरपालिका में जहां 80 वर्ष महिला नर्बदा प्रमुख बनी हैं, जो कि सभी निकायों में यह सबसे उम्रदराज निकाय प्रमुख हैं। उम्रदराज निकाय प्रमुखों में महवा के बाद उदयपुर का नंबर है। यहां 75 वर्षीय गोविंद टांक मेयर बने हैं। वहीं राजगढ में 70 वर्षीय रजिया प्रमुख बनी हैं।

सबसे रोचक मुकाबला

सबसे रोचक मुकाबला भरतपुर नगर निगम में देखने को मिला। नगर निगम बनने के बाद पहली बार भरतपुर नगर निगम में कांग्रेस का महापौर बना है। हालांकि यहां पर भाजपा के पार्षदों की संख्या कांग्रेस से ज्यादा थी, लेकिन निर्दलीयों का हाथ पकड़ कांग्रेस ने महापौर की कुर्सी पर कब्जा कर लिया। वहीं उदयपुर और बीकानेर नगर निगम में एक बार फिर कमल खिला। वहीं नगर परिषदों की 2014 से तुलना करें तो भाजपा के पास पाली, जालौर और ब्यावर ही बचे हैं। पिंडबाड़ा, सुमेरपुर, पुष्कर और छबड़ा नगर पालिका में भाजपा ने कब्जा बरकरार रखा है।

कांग्रेस पार्षदों से पेन कैमरे पकड़े, भाजपा पार्षद से दो लाख जब्त
अलवर में मतदान के दिन कांग्रेस पार्षदों से पेन कैमरा तो भाजपा पार्षद की जेब से दो लाख रुपए पुलिस ने जब्त किए। मतदान स्थल पर पेन कैमरा लेकर आए पार्षद निकल गए लेकिन, सभागार में जाने से पहले सीढिय़ों पर पुलिस ने पकड़ लिया। जांच में सामने आया कि इससे पहले कुछ पार्षद पेन कैमरे लगाकर अंदर चले गए थे, जिनको तुरंत वापस बुलाया गया। फिर पुलिस ने पेन कैमरे जब्त कर लिए। वहीं वार्ड 18 से भाजपा के पार्षद विमल जैन जब वोट डालने आए तो पुलिस की निगाह उनकी जेब पर गई। जेब को देखा तो दो लाख रुपए निकले। जो पुलिस ने जब्त कर लिए।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned