लॉक डाउन से अंतिम संस्कार की राह ना हो जाए मुश्किल

लॉक डाउन से अंतिम संस्कार की राह ना हो जाए मुश्किल
शहर के प्रमुख श्मशान घाट में लकड़ियों व अंतिम संस्कार के सामान की किल्लत शुरू
शहर के श्मशान घाटों में चौमूं,लालसोट, बस्सी से सप्लाई होती है लकड़ियां
अंतिम संस्कार के अन्य सामान की भी होने लगी है कमी
वाहनों के पास नहीं बनने से प्रभावित होने लगी सप्लाई

जयपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका से लागू हुए लॉक डाउन में अब शहर के श्मशान घाटों में सप्लाई हो रही लकड़ियों और अन्य सामान पर भी असर दिखाई देने लगा है। शहर के अधिकांश श्मशान घाटों पर लकड़ियों का स्टॉक कम होने पर अंतिम संस्कार भी प्रभावित होने की आशंका है। चौमूं,लालसोट, बस्सी समेत आस पास के कस्बों से शहर के श्मशान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियों का स्टॉक सप्लाई होता है लेकिन लॉक डाउन में सप्लाई वाले वाहनों का पास नहीं बनने और वाहनों में लकड़ियां भरने के लिए श्रमिक उपलब्ध नहीं होने से सप्लाई भी थमती नजर आ रही है।

लकड़ियों का खत्म होने लगा स्टॉक

शहर के प्रमुख श्मशान घाटों में अगले तीन चार दिनों तक अंतिम संस्कार के लिए इस्तेमाल होने वाली लकड़ियों का स्टॉक ही फिलहाल बचा है। आगामी दिनों में यदि प्रशासन ने लकड़ियों की सप्लाई को लेकर इंतजाम नहीं किए तो हालात भयावह होने की आशंका है। लकड़ियों के अलावा अंतिम संस्कार में काम आने वाली सामग्री का भी दुकानों पर टोटा होने लगा है। बताया जा रहा है आगे से संस्कार की सामग्री ही सप्लाई नहीं हो रही है। त्रिवेणी नगर श्मशान घाट का संचालन कर रही मायादेवी ने बताया कि दौसा,बस्सी,लालसोट और चौमूं से घाट पर लकड़ियां सप्लाई होती है। लेकिन सप्लायर्स को डिमांड लिखवाने के चार दिन बाद भी अब तक लकड़ियों का स्टॉक नहीं मिला है। सप्लायर वाहन पास नहीं होने और लकड़ियां ट्रक में भरने के लिए श्रमिक नहीं मिलने की बात कह रहे हैं।

अंतिम संस्कार की सामग्री पर भी संकट

शहर में चांदपोल स्थित दुकानदार ही शहर के अन्य श्मशानघाट संचालकों को अंतिम संस्कार की सामग्री सप्लाई करते हैं। लेकिन अब दुकानदारों ने भी आगे से सामग्री सप्लाई नहीं मिलने की बात कह कर टरकाना शुरू कर दिया है। मधुबन कॉलोनी स्थित श्मशानघाट संचालक मुकेश ने बताया कि अंतिम संस्कार की सामग्री आदि भी अब खत्म होने लगी है। चांदपोल बाजार के सप्लायरों ने भी सामग्री नहीं होने का बहाना बनाना शुरू कर दिया है। जल्द ही हालात नहीं सुधरे तो अंतिम संस्कार की सामग्री का कॉलोनियों के श्मशान घाटों में टोटा होना तय है।

anand yadav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned