हे प्रभु! अब तो भक्तों के लिए खोलो दर

दर्शनार्थियों के लिए शहर के छोटे मंदिरों को खोलने (Open temples) की मांग उठने लगी है। भक्तों के लिए मंदिरों को खोलने के लिए लोग सरकार से आग्रह करने के साथ भगवान से अरदास भी कर रहे है। शहर के छोटे मंदिरों के पुजारियों के साथ ही विभिन्न ब्राह्मण संगठन छोटे मंदिरों को दर्शनार्थियों के लिए खोलने की मांग कर रहे है।

By: Girraj Sharma

Published: 14 Jun 2020, 03:12 PM IST

हे प्रभु! अब तो भक्तों के लिए खोलो दर
— छोटे मंदिरों को दर्शनार्थियों के लिए खोलने की उठी मांग
— ब्राह्मण संगठनों के मुख्यमंत्री के सामने रखी मांग

जयपुर। दर्शनार्थियों के लिए शहर के छोटे मंदिरों को खोलने (Open temples) की मांग उठने लगी है। भक्तों के लिए मंदिरों को खोलने के लिए लोग सरकार से आग्रह करने के साथ भगवान से अरदास भी कर रहे है। शहर के छोटे मंदिरों के पुजारियों के साथ ही विभिन्न ब्राह्मण संगठन छोटे मंदिरों को दर्शनार्थियों के लिए खोलने की मांग कर रहे है। लोगों का तर्क है कि छोटे मंदिरों में गिने—चुने लोग ही दर्शनों के लिए जाते हैं, इन मंदिरों में सरकार की गाइडलाइन की पालना कराने में कोई परेशानी भी नहीं होगी। लोगों का कहना है कि जब सरकार ने बाजार—दुकानें ही खोलने की छूट दे दी तो मंदिरों में भी दर्शनार्थियों के प्रवेश की छूट मिलनी चाहिए।

राजस्थान ब्राह्मण महासभा ने शहर के छोटे मंदिरों को दर्शनार्थियों के लिए खोलने की मुख्यमंत्री के समक्ष मांग उठाई है। महासभा ने इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलेात को पत्र लिखा है। महासभा के सभापति सुभाष पाराशर ने बताया कि शहर के सभी मंदिर पिछले ढाई माह से अधिक समय से बंद पडे है। इससे मंदिरों पर ही आश्रित पुजारियों के सामने रोजी—रोटी का संकट खडा हो गया है। पुजारी परिवारों के सामने भूखे रहने की नौबत आ गई है। पाराशर का कहना है कि शहर के आठ—दस बडे मंदिर है, उन्हें छोडकर छोटे मंदिरों को दर्शनार्थियों के लिए खोल देना चाहिए। वहीं गांवों के मंदिरों को भी सरकार अब छूट प्रदान करें।

सर्व ब्राह्मण महासभा के राष्टीय अध्यक्ष पंडित सुरेश मिश्रा का कहना है कि सरकार ने बाजार—दुकानें आदि खोलने की छूट दे दी है तो शहर के छोटे मंदिरों को भी दर्शनार्थियों के लिए खोलने की छूट मिलनी चाहिए। छोटे मंदिरों में दिनभर में गिने—चुने लोग ही दर्शनों के लिए जाते है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना आसानी से हो जाती है। छोटे मंदिर खुलेंगे तो कई पुजारी परिवारों का जीवन—बसर आसानी से हो सकेगा। मिश्रा ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ केन्द्र सरकार से भी छोटे मंदिरों को दर्शनार्थियों के लिए खोलने का आग्रह किया है।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned