Locust: जयपुर पर फिर किया अटैक

जयपुर और आसपास के क्षेत्र में जोरदार हमला

टिड्डी दल ने आमेर में मनसा माता पार्क में हमला किया

By: Rakhi Hajela

Published: 23 May 2020, 03:59 PM IST

कोरोना के कहर के बीच पाक से निकलकर सीमावर्ती क्षेत्रों से होते हुए आए टिड्डी दल ने शनिवार को एक बार फिर जयपुर और आसपास के क्षेत्र में जोरदार हमला किया है। शनिवार दोपहर टिड्डियों का दल राजधानी जयपुर के आमेर, कालवाड़,हरमाड़ा, रेनवाल, जयसिंहपुरा खोर तक पंहुच गया। टिड्डी दल ने आमेर में मनसा माता पार्क में हमला किया और नर्सरी के पेड़ पौधों को काफी नुकसान पंहुचाया। मौके पर पंहुचे वन विभाग के अधिकारियों ने टिड्डी दल को यहां से भगाया। उन्होंने कचरा जलाकर धुंआ कर इस दल को भगाने में सफलता प्राप्त की। वहीं दूसरी ओर टिड्डी दल यहां से नाहरगढ़ क्षेत्र से होता हुआ जयसिंहपुरा खोर पंहुचा और खेतों में खड़ी फसल चौपट कर दी।
आपको बता दें कि केवल आमेर में नहीं बल्कि टिड्डियों के दल ने कालवाड़ के पास जयरामपुरा, मोहनवाड़ी सहित आसपास के क्षेत्र में भी टिड्डी दल ने शनिवार को जोरदार हमला किया। टिड्डियों को देखकर किसानों में हड़कम्प मच गया और वह ढोल नगाड़े बजाते हुए उन्हें भगाने का प्रयास करते हुए नजर आए।
इसी प्रकार टिड्डियों के दल को हरमाड़ा, रेनवाल, कालवाड़ में देखा गया। जानकारी के मुताबिक रेनवाल में सीकर की सीमा से होते हुए टिड्डियों के एक बड़े दल ने शुक्रवार रात प्रवेश किया। टिड्डियों के दल को देखकर किसानों में हड़कम्प मच गया। सूचना मिलने पर देर रात तकरीबन १० बजे कृषि विभाग के आला अधिकारी मौके पर पंहुचे और दवा का छिड़काव करना शुरू किया। टिड्डियों का दल ने रेनवाल के खातीपुरा और रामपुरा क्षेत्र में अपनी दस्तक दी थी साथ ही सीकर जिले के खाचरियावास विभाग के उपनिदेशक भंवरलाल कड़वा का कहना था कि यह टिड्डी दल बेहद खतरनाक है। हमारी टीम रात भर फसलों को बचाने के कार्य में लगे रहे। हम तकरीबन ९० फीसदी टिड्डियों का खात्मा कर दिया है। आपको बता दें कि क्षेत्र में टिड्डी हमले की सूचना पाकर नायब तहसीलदार भीवा राम वर्मा के नेतृत्व में पटवारी शंकर लाल मीणा, रजनीकांत वर्मा सहित अनेक कर्मचारी मौके पर पहुंचे थे। वहीं किसान भी अपने स्तर पर टिड्डियों को भगाने का प्रयास करते रहे।। किसानों ने खेतों में ढोल नगाड़े आदि बजाए जिससे टिड्डियों का दल क्षेत्र में बैठ नहीं सके। उल्लेखनीय है कि अभी अधिकांश खेत खाली पड़े हुए हैं एेसे में किसानों को अधिक नुकसान नहीं हुआ।
आपको बता दें कि इससे पूर्व बुधवार को भी इसी प्रकार टिड्डियों का दल जयपुर जिले के पावटा और कोटपूतली इलाके में पहुंचा था लेकिन यह दल वहां नहीं रुका और शाम तक जयपुर के समीप जमवारामगढ़.आंधी इलाके में पहुंचकर वहां डेरा डाल दिया था। तब हरकत में आए कृषि विभाग ने दवाओं का छिड़काव कर इन पर नियंत्रण किया था। उस समय ही अधिकारियों ने कहा था कि टिड्डी दल का हमला फिर से हो सकता है।
आपको बता दें कि यूएन ने पहले ही चेतावनी दी है कि इस साल पिछले साल के मुकाबले दो से तीन गुना ज्यादा बड़ा हमला हो सकता है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी शुक्रवार को टिड्डी नियंत्रण को लेकर प्रदेश के सीमावर्ती जिलों के कलक्टरोंए टिड्डी चेतावनी संगठन एवं कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के जरिए चर्चा की थी। कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि टिड्डी चेतावनी संगठन को अधिक मजबूत किया जाए और आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराए।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

अगली कहानी
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned