काल बनकर फसलों पर मंडरा रही टिड्डियां


सीमांत इलाकों में थम नहीं रहा टिड्डियों का कहर

By: HIMANSHU SHARMA

Updated: 06 Jan 2020, 10:27 AM IST


जयपुर
सीमांत इलाकों में इन दिनों टिड्डियां कहर बरपा रही हैं। सरकार से लेकर किसानों की कई कोशिश करने के बाद भी टिड्डियां काल बनकर फसलों पर मंडरा रही रही हैं। प्रदेश के जैसलमेर जोधपुर,बीकानेर,बाड़मेर,जैसलमेर,जालोर सहित प्रदेश के कई जिले के टिड्डी प्रभावित हैं। जैसलमेर सहित सभी जिलों में टिड्डी दलों से किसानों को निजात नहीं मिल पा रही है। जिले के अलग-अलग हिस्सों में टिड्डी दल मंडराते नजर आए। जिनसे मुकाबला करने के लिए संबंधित क्षेत्रों के किसान भी पूरी तरह से जुटे हुए हैं। जिले के मूलसागर से भू, भोपा, पीथोड़ाई और नहरी इलाकों के साथ डाबला, आशायच और उससे लगते क्षेत्रों में असंख्य टिड्डियां खेतों में फसलों का खात्मा करने में जुटी नजर आई तो कहीं वे आकाश में मंडरा कर किसानों की धडक़नें तेज कर रही हैं। उन्हें मारने के लिए किसान ट्रेक्टर और अन्य वाहनों पर कीटनाशकों के ड्रम भर कर दौड़धूप कर रहे हैं। कोई क्षेत्र बाकी नहीं बचा जिले के प्रत्येक क्षेत्र में चाहे सिंचित भूमि हो या नहरी क्षेत्र, सभी तरफ टिड्डी दल किसानों के जी का जंजाल बने हुए हैं। वहीं प्रशासन खड़ी फसलों पर छिडक़ाव करने से बच रहा है और टिड्डी दल खाली जमीन पर बैठ नहीं रही है। जिस कारण से टिड्डियों के दल किसानों की फसल पर हावी हो रही हैं।
फसलें और वनस्पति चट कर रही टिड्डियां
जोधपुर जिले के सीमावर्ती बाप उपखण्ड के कई गांवों में एक बार फिर सीमा पार से आई फसलों की दुश्मन टिड्डियों ने हमला बोल दिया है। भारी टिड्डी दल खेतों में खड़ी रबी की फसलों के साथ वनस्पतियों को चट कर रहा है। बारू व रोला गांव के आसपास बड़ा टिड्डी दल पहुंचा है। वहीं धुंधाड़ा की तरफ से भी टिड्‌डी दल जिले में प्रवेश करने की कगार पर है। यहां से करीब 20 किमी दूर बाड़मेर बाॅर्डर के गांवों में भी टिड्डियाें ने हमला बाेला। जिससे टिड्डियों ने किसानों को चिंता में डाल दिया। किसान टिड्डियों को उड़ाने के लिए परिवार सहित थाली व कनस्तर बजाकर खेतों में दौड़ रहे हैं।
करोड़ों की फसलें चट कर गई टिड्‌डी
वहीं बाड़मेर जिले में एक बार फिर बॉर्डर के गांवों व बालोतरा क्षेत्र में टिड्‌डी ने किसानों की हालत खराब कर रखी है। टिड्डी दल ने बाड़मेर जिले के सैकड़ों गांवों में तबाही मचाई। बाड़मेर में टिड्डियों ने फिर से हमला बोला है। जालोर से सिवाना के रास्ते टिड्डी ने फिर से बाड़मेर में प्रवेश किया। अब बायतु तक पहुंच गई है। टिड्डी से करोड़ों की रबी फसलों को नुकसान पहुंचाया है। वर्तमान में बाड़मेर में चार जगह टिड्डी का जमाव है। इनमें चाडीयाली, डिगा, गिराब व समदड़ी है। तेज सर्दी के बावजूद टिड्डी का प्रकोप कम नहीं हो रहा है।
खेतों का सफाया
जालौर के कई गांवों में टिड्डी ने किसानों के खेतों का सफाया कर दिया। खेतों में जीरा, इसबगोल, सरसों व गेंहूं की खड़ी फसल के ऊपर से टिड्डी ने पत्तियों को चट्ट कर दिया है। प्रशासन व ग्रामीणों की मदद से टिड्डियों को नष्ट करने के लिए फायर बिग्रेड सहित वाहनों से दवाई का छिड़काव जारी हैं। लेकिन फिर भी टिड्डी दल कई गांवों में फसलों को भारी नुकसान पहुंचा चुके है। टिड्डी दल से प्रभावित किसान फसलों को बचाने के लिए काफी जत्न कर रहे है लेकिन सफल नहीं हो रहे हैं।

HIMANSHU SHARMA
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned