तीन घंटे आकाशीय मंडल में दिखेगा खंडग्रास चंदग्रहण का विशेष नजारा, राजनीति में उथल-पुथल संभव

तीन घंटे आकाशीय मंडल में दिखेगा खंडग्रास चंदग्रहण का विशेष नजारा, राजनीति में उथल-पुथल संभव

Nidhi Mishra | Updated: 14 Jul 2019, 04:27:13 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

मध्यरात्रि में होगा चंदग्रहण, 2 घंटे 59 मिनिट की कुल समयावधि

जयपुर। आषाढ़ी पूर्णिमा मंगलवार को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र, वैद्यृति योग के बीच गुरुपूर्णिमा ( guru purnima 2019 ) का पर्व मनाया जाएगा। मंगलवारी पूर्णिमा होने से यह दिन विशेष फलदायी होगा। खास बात यह है कि इस दिन रात को चंद्रग्रहण ( Lunar Eclipse 2019 ) का नजारा भी देखने को मिलेगा। ज्योतिषाचार्य पं.दामोदर प्रसाद शर्मा के मुताबिक इस बार चंद्रग्रहण आषाढ़ी पूर्णिमा की रात को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में धनु राशि में शुरू होकर मकर राशि में खत्म होगा। इस ग्रहण से उत्तर भारत में उत्तरप्रदेश, पंजाब, कनार्टक, राजस्थान और मध्यप्रदेश की राजनीति में उथल पुथल भी हो सकती है। ग्रहण के समय धनु राशि में शनि, केतु, चंद्रमा, सूर्य के साथ राहु और मिथुन राशि में राहु के साथ सूर्य, शुक्र रहेंगे। इस ग्रहण के समय सूर्य और चंद्रमा चार विपरित ग्रह शनि, शुक्र, राहु और केतु के बीच में रहेंगे। वहीं मंगल नीच का रहेगा। ऐसा योग 149 साल पहले 12 जुलाई 1870 को बना था।

 

मौसम में होगा बदलाव
शर्मा के मुताबिक ग्रहण रात 1.31 बजे प्रारंभ होगा। ग्रहण खत्म 4.30 बजे होगा। यह ग्रहण संपूर्ण भारत में दिखेगा। अफ्रीका, आस्ट्रेलिया, यूरोप, दक्षिण अमेरिका सहित एशिया महाद्वीप के समस्त देशों में दिखाई देगा। ग्रहण का मध्य 3.01 बजे रहेगा।

 

शाम 4.31 बजे सूतक शुरू
ज्योतिषविद पं.पुरुषोत्तम गौड़ ने बताया कि ग्रहण का सूतक मंगलवार शाम 4.31 बजे से शुरू हो जाएगा। इससे पहले ही गुरु पूर्णिमा से संबंधित पूजा-पाठ कर लेना शुभ होगा। प्राचीन समय में इसी पूर्णिमा पर महर्षि वेद व्यास का जन्म हुआ था। तब से जयंती के मौके पर गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है और अपने गुरु की पूजा की जाती है। शास्त्रानुसार सूतक काल में बालक, वृद्ध और रोगियों को छोड़कर धार्मिक जनों को भोजनादि नहीं करें।

 

वहीं कोटखावदा में परमसंत स्वामी श्रीरामप्रसाद अखिल भारतीय मानव कल्याण सेवा आश्रम संस्थान पर 16 जुलाई 2019 को गुरू पूर्णिमा महापर्व मनाने को लेकर शनिवार को बैठक का आयोजन हुआ, जिसमें विभिन्न निर्णय लिए गए। बैठक की अध्यक्षता संस्थान अध्यक्ष भोमाराम नाराणिया ने की। बैठक में गुरू पूर्णिमा महापर्व को मनाने के लिए चर्चा करते हुए गुरू पूजन, धर्मसभा, सत्संग, गुरूमहिमा, भण्डारा सहित विभिन्न आयोजित होने वाले धार्मिक कार्यक्रमों को सफल बनाने का निर्णय लिया गया और जिम्मेदारियां सौंपी गई। बैठक में सामाजिक उत्थान को लेकर चर्चा करते हुए समाज विकास के निर्णय लिए गए जिसमें लोगों ने अपने-अपने विचार भी दिए और एकजुट होकर समाज को आगे बढ़ाने का निर्णय लिया गया। वहीं गुरू पूर्णिमा पर्व पर ज्यादा से ज्यादा लोगों को शामिल होने का संकल्प लिया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned