चिकन-मुर्गे खाकर पिकनिक मना रहे तथाकथित किसान, फैला रहे बर्ड फ़्लू, आंदोलन में हो सकते हैं आतंकवादी: मदन दिलावर

- किसान आंदोलन के बीच भाजपा नेता का विवादित बयान, मदन दिलावर ने वीडियो जारी कर दिया विवादित बयान, आंदोलन पड़ाव स्थल को बताया पिकनिक स्पॉट, आरोप- पड़ाव स्थल पर ऐशो-आराम कर रहे किसान, आंदोलन स्थल पर आतंकवादी होने का भी दिया हवाला



By: nakul

Published: 09 Jan 2021, 01:01 PM IST

जयपुर।

केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर गरमाए माहौल के बीच राजस्थान भाजपा के विधायक व संगठन महामंत्री मदन दिलावर का विवादित बयान सामने आया है। किसान आंदोलन को लेकर जारी एक बयान में दिलावर ने आंदोलनकारियों को तथाकथित किसान की संज्ञा दी है, साथ ही आंदोलन को पिकनिक स्पॉट करार दिया है। यही नहीं रामगंजमंडी से विधायक ने आंदोलन स्थल पर चिकन मुर्गे और काजू-बादाम खाने तक की बात कहते हुए एक नया विवाद खडा कर दिया है।


गौरतलब है कि भाजपा नेता मदन दिलावर और विवादित बयानों का हमेशा से ही ख़ास नाता रहा है। इससे पहले भी वे कई बार अपने विवादित बयानों से सुर्ख़ियों में रह चुके हैं। एक बार फिर उन्होंने किसान आंदोलन के संवेदनशील मुद्दे पर विवादित बयान देकर नई बहस को जन्म दे दिया है।


आंदोलन नहीं पिकनिक, चिकन-मुर्गे खा रहे
विधायक मदन दिलावर ने एक वीडियो बयान जारी करते हुए कहा, ‘तथाकथित किसानों को देश की चिंता नहीं है। वहां आन्दोलन नहीं पिकनिक मनाई जा रही है। आन्दोलन स्थल पर चिकन-मुर्गे और काजू-बादाम खाए जा रहे हैं। सब तरह के ऐशो आराम हो रहे हैं।


आतंकवादी भी हो सकते हैं
दिलावर ने अपने बयान में आतंकवादी शब्द तक काम में लिया। उन्होंने आरोप लगाया कि आंदोलन स्थल पर लोग वेश बदल-बदल कर पहुँच रहे हैं। इनमें आतंकवादी, चोर-लुटेरे और किसानों के दुश्मन भी हो सकते हैं। ये सब देश को बर्बाद करने पर तुले हैं।


किसान आंदोलन से फ़ैल रहा बर्ड फ़्लू
दिलावर यहीं नहीं रुके। उन्होंने आगे कहा, ‘पड़ाव स्थल पर चिकन-मुर्गे खाकर बर्ड फ़्लू फैलाने का षड़यंत्र भी हो रहा है। सरकार ने इसे नियंत्रित नहीं किया, तो बर्ड फ़्लू का प्रकोप बड़ा रूप ले सकता है। आंदोलनकारियों को जल्द हटाया जाए ताकि बर्ड फ़्लू के प्रकोप से भी बचा जा सके।


सख्ती से पेश आये सरकार
रामगंजमंडी से विधायक व पूर्व मंत्री मदन दिलावर ने किसान आंदोलन में डटे आंदोलनकारियों को जल्द से जल्द हटाने की अपील की। उन्होंने कहा कि सरकार पहले निवेदन, अनुनय-विनय और प्रेम से आंदोलनकारियों को हटाने की कोशिश करे, यदि तब भी नहीं मानें तो सख्ती से उन्हें हटाया जाए, ताकि परेशान जनता को राहत मिल सके।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned