scriptMaharashtra crisis: development work stuck | महाराष्ट्र संकट : अटक गया विकास कार्य | Patrika News

महाराष्ट्र संकट : अटक गया विकास कार्य

महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार भले ही संकट में हो पर इसमें शामिल एनसीपी और कांग्रेस के मंत्रियों ने पिछले चार दिनों में विकास कार्यों के लिए हजारों करोड़ रुपए जारी करने के आदेश जारी किए हैं। ज्यादातर विभाग इन्हीं दोनों के पास हैं। 20 से 23 जून के बीच, विभागों ने 182 सरकारी संकल्प (जीआर) जारी किए, जबकि 17 जून को उन्होंने 107 ऐसे जीआर पारित किए।

जयपुर

Published: June 25, 2022 07:18:27 pm

महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार भले ही संकट में हो पर इसमें शामिल एनसीपी और कांग्रेस के मंत्रियों ने पिछले चार दिनों में विकास कार्यों के लिए हजारों करोड़ रुपए जारी करने के आदेश जारी किए हैं। ज्यादातर विभाग इन्हीं दोनों के पास हैं। 20 से 23 जून के बीच, विभागों ने 182 सरकारी संकल्प (जीआर) जारी किए, जबकि 17 जून को उन्होंने 107 ऐसे जीआर पारित किए।
महाराष्ट्र
महाराष्ट्र
इन आदेशों को सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर देखा जा सकता है। भाजपा एमएलसी प्रवीण दारेकर ने राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी को पत्र लिख कर सरकार के ऐसे फैसलों पर रोक लगाने की मांग की है। शिंदे का विद्रोह 21 जून की सुबह सार्वजनिक हुआ पर, उनकी बढ़ती बेचैनी को शिवसेना के सहयोगी राकांपा और कांग्रेस ने भांप लिया था।
सूत्रों ने बताया कि राकांपा प्रमुख शरद पवार ने यहां तक दावा किया था कि उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को शिंदे और कुछ विधायकों के संभावित बागी होने के बारे में बताया था। सत्ताधारी साझेदारों को आभास हो गया था कि क्या हो रहा है। जीआर जारी करने में आई तेजी को इसी से जोड़कर देखा जा रहा है।
कई दलों में हुई है बगावत

सियासी दलों में बगावत कोई नई बात नहीं है। सबसे ज्यादा टूट कांग्रेस में हुई है। कई दल बंटवारे का दंश झेल चुके हैं। हालिया मामला लोक जनशक्ति पार्टी का है। रामविलास पासवान की विरासत के लिए उनके बेटे चिराग व चाचा पारस आमने-सामने हो गए। सांसदों की संख्या के आधार पर लोजपा पर पारस का कब्जा हो गया। पार्टी का चुनाव चिह्न किसे मिलेगा, यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है।
सपा में भी बगावत हो चुकी है। भतीजे अखिलेश से नाराज चाचा शिवपाल ने अलग पार्टी बना ली। चुनाव चिह्न की लड़ाई सुप्रीम कोर्ट तक पहुंची। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अखिलेश को साइकिल मिल गई। एनटीआर के निधन के बाद तेलुगू देशम पार्टी में भी बगावत हुई थी। पार्टी पर चंद्रबाबू नायडू काबिज हो गए। नायडू को सत्ता जरूर मिली, मगर फिलहाल बैकफुट पर हैं। वाइएसआर कांग्रेस, एनसीपी, टीएमसी आदि कांग्रेस से अलग हुए दल हैं।
जलापूर्ति विभाग ने जारी किए 84 जीआर
शिवसेना के गुलाबराव पाटिल की अध्यक्षता वाले जल आपूर्ति और स्वच्छता विभाग ने 17 जून को एक ही दिन में 84 से अधिक जीआर जारी किए। अधिकांश आदेश धन की मंजूरी, प्रशासनिक मंजूरी और विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं पर काम करने वाले कर्मचारियों के वेतन से संबंधित थे।
newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री मोदी आज गोवा में ‘हर घर जल उत्सव’ को करेंगे संबोधितकर्नाटक की राजनीति: येडियूरप्पा के लिए भाजपा ने क्यों बदला अलिखित नियमदिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बिल्डरों के साथ मिलकर कृषि कॉलेज की जमीन को बेच रहे अफसर-नेतापंजाब के अटारी बॉर्डर के पास दिखा ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद पाकिस्तान की तरफ लौटाविश्व कुश्ती चैंपियनशिप में प्रियांशी ने जीता कांस्यकौन हैं IAS राजेश वर्मा, जिन्हें किया गया राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का सचिव नियुक्त?IND vs ZIM: शिखर धवन और शुभमन गिल की शानदार बल्लेबाजी, भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हरायापटना मेट्रो रेल के भूमिगत कार्य का CM नीतीश कुमार ने किया उद्घाटन, तेजस्वी यादव भी रहे मौजूद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.