महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन पर फैसला सोनिया गांधी करेंगी

महाराष्ट्र में सियासत ( Politics In Maharashtra ) उबाल पर है। किसकी सरकार बनेगी और किसके समर्थन से बनेगी, यह अभी तक तय नहीं हो पाया है। मगर कांग्रेस और शिवसेना ( Alliance Between Congress And Shivsena ) के बीच गठबंधन होता है तो देश की सियासत में एक नए राजनीतिक अध्याय ( New Chapter Of Politics In India ) का आगाज होगा। मगर यह सबकुछ सोनिया गांधी ( Congress President Sonia Gandhi ) के निर्णय पर निर्भर करेगा।

जयपुर।

Maharashtra Political Crisis महाराष्ट्र में चल रही सियासी हलचल का असर जयपुर में भी देखने को मिल रहा है। पिछले दो दिनों से महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायक जयपुर में डेरा डाले हुए हैं। यही नहीं पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे, वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष बाबा साहब थोराट, पूर्व सीएम अशोक चव्हाण, पृथ्वीराज चव्हाण, नितिन राउत सहित कई बड़े कांग्रेस नेता भी जयपुर में ही है। आमेर रोड पर एक होटल में ठहरे इन विधायकों की खड़गे ने रविवार को बैठक ली।

होटल से बाहर आकर खड़गे ने कहा कि जनता ने कांग्रेस को विपक्ष में बैठने का मैंडेट दिया है। कांग्रेस और एनसीपी विपक्ष में बैठकर जनता की आकांक्षाओं पर खरी उतरेंगी। शिवसेना को समर्थन उन्होंने कहा कि इस मसले पर अंतिम फैसला हाईकमान करेंगे। कई तरह के बयान आ रहे थे। लेकिन सभी विधायकों के साथ चर्चा के बाद सहमति बन चुकी है।

विधायक चाहते हैं सरकार में भागीदारी
सूत्रों से पता चला है कि खड़गे के साथ हुई बैठक में ज्यादातर विधायकों ने सत्ता में भागीदारी की बात कही। विधायक चाहते हैं कि शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाई जाए। बाहर से समर्थन देने की बजाय कांग्रेस विधायक सरकार में शामिल होना चाहते हैं। कांग्रेस विधायकों से मुलाकात के दौरान राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत भी मौजूद रहे। विधायकों से बात करने के बाद मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि वे विधायकों की मंशा सोनिया को बताएंगे। सोनिया गांधी से बात करने के बाद ही इस मसले पर आखिरी फैसला लिया जाएगा।

ये है सीटों का गणित
इस बार कांग्रेस के 44 विधायक चुनाव जीते हैं, जबकि 288 सीटों वाली महाराष्ट्र विधानसभा में एनसीपी के 54 विधायक चुनाव जीते हैं. बीजेपी के पास विधायकों की संख्या 105 हैं, जबकि शिवसेना 56 सीटों पर विजयी हुई है। मैंडेट के हिसाब से भाजपा और शिवसेना मिलकर सरकार बना सकते हैं, लेकिन दोनों के बीच सत्ता में भागीदारी को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है।

11 को होगा तय, कहां जाना है
कांग्रेस के करीब 40 विधायक जयपुर आए हैं और दो दिनों से जयपुर भ्रमण कर रहे हैं। कुछ विधायकों ने रविार को अजमेर और पुष्कर का भ्रमण किया। बताया जा रहा है कि 11 नवंबर यानि सोमवार को यह तय होगा कि विधायक जयपुर रहेंगे या वापस लौटेंगे।

Umesh Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned