किसानों के सम्मान में महिला कांग्रेस का शाहजहांपुर कूच, 28 फरवरी को महिला कांग्रेस का धरना

सुबह 10 बजे दोपहर 2 बजे तक किसानों के समर्थन में धरने पर बैठेंगी महिला कार्यकर्ता,प्रदेश भर तीन हजार महिला कार्यकर्ताओं के शामिल होने का है लक्ष्य

By: firoz shaifi

Published: 23 Feb 2021, 11:41 AM IST

जयपुर। केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलरत किसानों के समर्थन में अब प्रदेश महिला कांग्रेस कार्यकर्ता भी मैदान में उतर चुकी है। किसानों के सम्मान में महिला कांग्रेस मैदान में के नारे के साथ प्रदेश महिला कांग्रेस 28 फरवरी को शाहजहांपुर बॉर्डर के लिए कूच करेगी। 28 फरवरी को शाहजहांपुर बॉर्डर पर प्रदेश महिला कांग्रेस के पदाधिकारी और कार्यकर्ता सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक किसानों के समर्थन में धरने पर बैठेंगी।

इस दौरान महिला कांग्रेस दो माह से ज्यादा समय से धरने पर बैठे किसानों के दुख-दर्द भी साझा करेंगी। प्रदेश महिला कांग्रेस की नवीन कार्यकारिणी गठित होने के बाद ये पहला बड़ा कार्यक्रम है। महिला कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष रेहाना रियाज ने बताया कि शाहजहांपुर बॉर्डर पर 28 फरवरी को होने वाले कार्यक्रम में प्रदेश भर से तीन हजार महिला कांग्रेस की कार्यकर्ता शामिल होंगी। शाहजहांपुर बॉर्डर पर होने वाले धरने को लेकर महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी गई है।

रेहाना रियाज ने बताया कि कृषि कानूनों के खिलाफ दो माह से से भी ज्यादा समय से किसान अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठा हुआ है, हाड़कंपा देने वाली सर्दी में भी किसान धरने पर बैठा रहा, लेकिन मोदी सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंगी। किसानों की मांगों का निस्तारण करने की बजाए भाजपा और उससे जुड़े संगठन किसानों को आतंकवादी और खालीस्तानी बताकर अन्नदाता का अपमान कर रहे हैं, जिसे महिला कांग्रेस बर्दाश्त नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि 28 फरवरी को महिला कांग्रेस के प्रस्तावित कार्यक्रम मोदी सरकार और भाजपा को चुनौती है कि वे किसानों की बात मानकर इन कानूनों को वापस ले ले। बता दें कि इससे पहले महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गांव-गांव ढाणी-ढांणी जाकर कृषि कानूनों के खामियां गिनाई थीं।

firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned