महिंद्रा मैनुलाइफ म्यूचुअल फंड का आर्बिट्रेज एनएफओ

निवेशक म्यूचुअल फंड ( mutual funds ) के आर्बिट्रेज योजना में निवेश करना चाहते है तो महिंद्रा मैनुलाइफ म्यूचुअल फंड ( Mahindra Manulife Mutual Fund ) ने नया एनएफओ लाया है। 12 अगस्त से खुला यह एनएफओ 19 अगस्त को बंद होगा। इसमें कम से कम 5000 रुपए का निवेश किया जा सकता है। यह स्कीम 25 अगस्त से लगातार बिक्री और पुनर्खरीद के लिए फिर से खुलेगी। महिंद्रा मैनुलाइफ म्युचुअल फंड ने कहा कि वह सबसे बेहतर बाजार की रणनीति को अपनाएगा।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 14 Aug 2020, 12:19 AM IST

जयपुर। निवेशक म्यूचुअल फंड के आर्बिट्रेज योजना में निवेश करना चाहते है तो महिंद्रा मैनुलाइफ म्यूचुअल फंड ने नया एनएफओ लाया है। 12 अगस्त से खुला यह एनएफओ 19 अगस्त को बंद होगा। इसमें कम से कम 5000 रुपए का निवेश किया जा सकता है। यह स्कीम 25 अगस्त से लगातार बिक्री और पुनर्खरीद के लिए फिर से खुलेगी। महिंद्रा मैनुलाइफ म्युचुअल फंड ने कहा कि वह सबसे बेहतर बाजार की रणनीति को अपनाएगा।
बता दें कि महिंद्रा मैनूलाइफ म्यूचुअल फंड महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड की सब्सिडियरी है। यह नया एनएफओ इक्विटी, डेरिवेटिव्स और डेट मार्केट में उपलब्ध आर्बिट्रेज अवसरों में निवेश के लिए एक ओपन एंडेड स्कीम है। यह योजना उन निवेशकों के लिए उपयुक्त है, जो कम जोखिम वाली, टैक्स लाभ वाली और बाजार में अस्थिरता से कम प्रभावित होने वाली योजना में पैसा लगाने के लिए कम समय के निवेश विकल्पों की तलाश करते हैं।
महिंद्रा मैनुलाइफ आर्बिट्रेज योजना इक्विटी और इससे संबंधित संसाधनों में कम से कम 65 से 100 प्रतिशत का निवेश करेगी। बाकी डेट और अन्य में 35 प्रतिशत का निवेश करेगी। 10 प्रतिशत तक रिट और इनविट में निवेश किया जाएगा। महिंद्रा मैनुलाइफ म्युचुअल फंड के एमडी आशुतोष बिश्नोई ने कहा कि वर्षों से आर्बिट्रेज मार्केट में निवेशकों की भागीदारी का अनुभव बताता है कि इसमें उपलब्ध अपार अवसरों के कारण लगातार वृद्धि दिखी है। उन्होंने कहा कि महिंद्रा मैनुलाइफ आर्बिट्रेज योजना उन निवेशकों के लिए उपयुक्त है, जो नकद और डेरिवेटिव मार्केट के बीच आर्बिट्रेज अवसरों के माध्यम से मुनाफा लेना चाहते हैं। यह साधन सुरक्षित साबित हो सकते है, क्योंकि वे कोई क्रेडिट-बेट्स नहीं लेते हैं। यह योजना बाजार साइकल में आर्बिट्रेज के अवसरों की पहचान करने के लिए विभिन्न रणनीति का उपयोग करती है। कम अस्थिरता और कम जोखिम पर रिटर्न की पेशकश करती है। बता दें कि इस समय बाजार के उतार-चढ़ाव के माहौल में कई म्यूचुअल फंड कंपनियों ने एनएफओ लाया है। हाल में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल, मिरै असेट जैसी कंपनियों ने भी एनएफओ लाया था।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned