scriptMakar Sankranti, Corona, kite Festival, Omicron, Rain-Hail | कोरोना के बीच होगा वो काटा का शोर... मकर संक्रांति का काउंटडाउन | Patrika News

कोरोना के बीच होगा वो काटा का शोर... मकर संक्रांति का काउंटडाउन

जयपुर. मकर संक्रांति की उलटी गिनती शुरू हो गई है। असमान में रंग-बिरंगी पतंगें दिखने लगी हैं। कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक के बीच स्कूलों की भी छुट्टियां शुरू हो गई हैं। ऐसे में बच्चे दिनभर छतों पर जमे हैं।

जयपुर

Updated: January 10, 2022 11:19:15 am

जयपुर. मकर संक्रांति की उलटी गिनती शुरू हो गई है। असमान में रंग-बिरंगी पतंगें दिखने लगी हैं। कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक के बीच स्कूलों की भी छुट्टियां शुरू हो गई हैं। ऐसे में बच्चे दिनभर छतों पर जमे हैं। राजधानी में सुबह से शाम तक पतंगबाजी का माहौल बना हुआ है। बाजार भी सज चुके हैं और पतंग-डोर की बिक्री शुरू हो गई है। लेकिन इस बिक्री पर कोरोना के साथ-साथ मौसम ने भी ब्रेक लगा दिए हैं।

kite festival 2022
kite festival 2022
दरअसल, पिछले कुछ दिन से हो रही बारिश-ओलावृष्टि के कारण शहर में पतंगों की बिक्री में गिरावट देखी जा रही है। पहले कोरोना फिर ऑमिक्रॉन और अब मौसम के बिगड़ते मिजाज ने पतंग बाजार पर मानो कहर बरसा दिया है। हांडीपुरा स्थित पतंग विक्रेताओं का कहना है कि पिछले साल के मुकाबले इस बार बाजार से काफी उम्मीदें थीं। सब कुछ सही चल रहा था लेकिन कोरोना विस्फोट के बाद आकाश से बरसी आफत ने पतंग बाजार को ठंडा कर दिया है। शनिवार-रविवार को हांडीपुरा में जरा हलचल बढ़ी है। कयास यही लगाए जा रहे हैं कि एकाध दिन में मौसम खुलते ही पतंगें आसमान में छाएंगी। साथ ही पतंग-डोर की खरीदारी भी कोरोना को अंगूठा दिखा परवान पर होगी।
विक्रेताओं को उम्मीद, सब बढिय़ा होगा:

-मालिक से यही दुआ है कि कोरोना कम कर दे और मौसम पतंगों के लायक बना दे।
-शौक बड़ी चीज है। इस बार भी कोरोना हो या बरसात सबको मात दे पतंगबाजी ही जीतेगी।
ग्राहक बोले, त्योहार तो मनाएंगे :

कोरोना का डर तो है लेकिन सावधानी से यदि पतंगबाजी की जाए तो फेस्टिवल का लुत्फ लिया जा सकता है। प्रयास यही रहेगा कि दोस्तों-परिजनों के साथ छत पर ही त्योहार मनाएं। बस पूरी तरह गाइडलाइन फोलो की जाए। लॉकडाउन का अंदेशा भी लग रहा था इसलिए पतंग-डोर, विश लैंप खरीद लिए हैं।
खास-खास :

- बरेली-रामपुरा की पतंगों की खासी डिमांड।
-2 से 10 रुपए वाली पतंगे ज्यादा खरीदी जा रहीं।
-यूथ-टीनेजर्स बतौर पहली पसंद मैदानी मांझा ही खरीद रहे।
-मांझे में छह गट्टों पर किया जा रहा फोकस।
-200-850 रुपए तक की मांझे की चरखियां ज्यादा बिक रहीं।
- 1000-1500 रुपए तक की खरीदारी की जा रही।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

SC-ST को आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, राज्य तय करें प्रमोशन का पैमानामहाराष्ट्रः सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी के 12 विधायकों का निलंबन असंवैधानिक बताते हुए रद्द कियाBrahMos Missiles: भारत से ब्रह्मोस मिसाइल खरीद रहा फिलीपींस, 37.5 करोड़ डॉलर की डील पर लगी मुहरटाटा की Air India आज से भरेगी उड़ान, इस तरह करेंगे यात्रियों का स्वागतRRB-NTPC: छात्र संगठनों का आज बिहार बंद का ऐलान, महागठबंधन ने भी किया समर्थन, पड़ोसी राज्यों में अलर्टRRB NTPC Student Protest : रेलवे का अलर्ट, यूपी के कई जिलों में चौकसी बढ़ीBrahMos Missiles: भारत से ब्रह्मोस मिसाइल खरीद रहा फिलीपींस, 37.5 करोड़ डॉलर की डील पर लगी मुहरकालीचरण को रिहा करने की मांग को लेकर प्रदर्शन, धर्म संसद के आयोजक व समर्थकों ने दिया धरना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.