मालविका ने नृत्य मुद्राओं से दर्शाया भरतनाट्यम का सौंदर्य, देखें वीडियो

Savita Vyas

Updated: 15 Sep 2019, 02:37:59 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India


जयपुर। सेंट्रल पार्क की शाम भरतनाट्यम के सौन्दर्य से खिल उठी। घुंघरुओं की आवाज और नृत्य मुद्राओं की मनमोहक अदाओं ने हर किसी को आकर्षित किया। स्पिकमैके, जेडीए और पर्यटन विभाग की ओर से सेंट्रल पार्क में आयोजित 'म्यूजिक इन दी पार्क' सीरीज में क्लासिकल डांसर मालविका सारूकाई ने भरतनाट्यम की प्रस्तुति दी। मालविका ने भरतनाट्यम नृत्य से जहां बसंत ऋतु की खूबसूरती को बयां किया। भरतनाट्यम की प्रस्तुति के अलावा जयदेव की अष्टपदि पर आधारित रचना ललित लवंग, मारीच वध और तिल्लाना आदि की प्रस्तुति दी गई। मालविका ने साथी कलाकरों के साथ मिलकर बसंत ऋतु में कामदेव के रूप और सौंदर्य का वर्णन किया। मारीच वध में उन्होंने मारीच का स्वर्ण मृग बनकर भगवान राम की कुटिया में आना और उसके बाद भगवान राम का उसका पीछा करते हुए जाना व आकाशवाणी से लक्ष्मण के उद्बोधन के बाद लक्ष्मण का वहां से चले जाना व उसके वध की लीलाओं को बहुत की खूबसूरत तरीके से दर्शाया। श्रीकृष्ण लीला के तहत उन्होंने कृष्ण जीवन के विभिन्न प्रसंगों को नृत्य मुद्राओं से प्रदर्शित किया। भारतनाटयम में तकनीकी पक्ष के साथ-साथ भाव पक्ष का खूबसूरत अंदाज भी देखने को मिला। अंत में वंदे मातरम् के जरिए देशभक्ति के रंग बिखेरे। स्पिक मैके के प्रवक्ता संदीप चंडोक ने बताया कि अब हर महीने के दूसरे शनिवार को सेंट्रल पार्क में संगीत एवं नृत्य की प्रस्तुतियां दी जाएंगी। आगामी कड़ी इस बार दो अक्टूबर को गांधी जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित की जाएगी। इस मौके पर पद्मविभूषण सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खां और उप शास्त्रीय गायिका सुनंदा शर्मा गांधी की पसंदीदा रचनाओं सहित अनेक देश भक्ति की रचनाएं प्रस्तुत करेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned