Surya puja importance सूर्यदेव को मंदार पुष्प अर्पित करने से मिलता है यह फल

माघ मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि का बहुत महत्व है. इस दिन स्कंद षष्ठी, मंदार षष्ठी और दारिद्र हर षष्ठी व्रत किया जाता है. स्कंद षष्ठी हर माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाई जाती है.

By: deepak deewan

Updated: 17 Feb 2021, 10:12 AM IST

जयपुर. माघ मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि का बहुत महत्व है. इस दिन स्कंद षष्ठी, मंदार षष्ठी और दारिद्र हर षष्ठी व्रत किया जाता है. स्कंद षष्ठी हर माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाई जाती है. यह शिवजी के पुत्र भगवान कार्तिकेय की पूजा का दिन है जबकि दरिद्रता हरण षष्ठी को व्रत रखने से घर में सुख समृद्धि बनी रहती है. इस दिन व्रत रखकर गरीबों के दुखों को दूर करने का प्रयास भी करना चाहिए.

आज गुप्त नवरात्र का छठवां दिन भी है जिसमें माता कात्यायनी की विशेष पूजा करने से शुभ फल प्राप्त होते हैं. ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं कि मंदार षष्ठी पर सूर्यदेव की पूजा का विधान है. मंदार षष्ठी पर व्रत रखकर सूर्यदेव की पूजा की जाती है. इस बार 17 फरवरी 2021 यानि बुधवार को यह व्रत है. इस दिन सुबह सूर्य देवता को जल चढ़ाने के बाद जरूरतमंदों को वस्त्र, अन्न दान करना चाहिए.

इस व्रत में भूखों को भोजन कराने का भी विधान है. शाम को सूर्यास्त के समय अन्न ग्रहण करके व्रत खोला जाता है. अपने सुखों की कामना के साथ गरीबों के दुखों को भी दूर करने की कामना के साथ यह व्रत रखा जाता है. इस व्रत में मंदार के पुष्प का सबंसे ज्यादा महत्व है. सूर्यदेव की विधि विधान से पूजा कर उन्हें मंदार के फूल अर्पित करने से यश प्राप्त होता है.

Show More
deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned