एएसपी की सास की हत्या और लूट का मुख्य आरोपी गिरफ्तार, डेढ़ साल पहले मानसरोवर में की थी वारदात

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक की सास की हत्या व लूट का मामला, मानसरोवर के भृगु पथ पर डेढ़ साल पहले की थी वारदात, पांच आरोपी पहले ही गिरफ्तार हो चुके, एक चल रहा था फरार, रतलाम से किया गिरफ्तार

देवेन्द्र शर्मा / जयपुर. करीब डेढ़ साल पहले मानसरोवर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजीव भटनागर की सास के घर में डकैती और लूट के मामले में फरार चल रहे एक आरोपी को पुलिस ने रतलाम से गिरफ्तार कर लिया। पिछले लम्बे समय से पुलिस उसकी तलाश कर रही थी, लेकिन वह पकड़ में नहीं आया। पुलिस उपायुक्त दक्षिण योगेश दाधीच ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी ढाण्डी उर्फ सुल्तान पारदी (23) रतलाम मध्यप्रदेश का रहने वाला है। डकैती व हत्या के इस मामले में पूर्व में उसके पांच साथी गिरफ्तार किए गए थे। ढाण्डी पर पुलिस ने 25 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया था।


गौरतलब है कि 15 सितंबर 2018 की रात को पारदी गिरोह के बदमाश भृगु पथ निवासी पुष्पलता बिसारिया के घर में खिड़की की ग्रिल तोड़कर घुस गए थे। एक कमरे में सो रहे हर्षित उर्फ शौर्यवर्धन को बंधक बनाया और दूसरे कमरे में बुजुर्ग पुष्पलता की हत्या कर नकदी, जेवरात एवं कीमती सामान लूट कर ले गए थे। इस मामले में पुलिस ने पूर्व में रतलाम निवासी शक्ति, गुर्जर की थड़ी कच्ची बस्ती निवासी चन्ना उर्फ जोनी, रतलाम हाल बीटू बाइपास डेरे में रहने वाले बादाम सिंह, गुड्डी और नंदनी को गिरफ्तार किया था। जबकि ढाण्डी फरार चल रहा था।


घर आने का पता चला

मुखबिर से पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी ढाण्डी रतलाम स्थित अपने घर आया है। इस पर पुलिस टीम को रवाना किया गया। वह घर से पुन: लौटने की फिराक में था। इसी दौरान रतलाम रेलवे स्टेशन से पुलिस ने उसे दबोच लिया। यह पारदी गिरोह अलग-अलग राज्यों में जाकर के आपराधिक वारदात करते हैं।


दक्षिण में काटी फरारी

पूछताछ में सामने आया है कि वारदात के बाद वह मध्य प्रदेश चला गया था। वहां से वह दक्षिण भारत में चला गया। लम्बे समय से वह कर्नाटक, केरल व आस-पास के राज्यों में फरारी काट रहा था। वहां भी उसने वारदात की है। जिसकी जानकारी जुटाई जा रही है। जयपुर में उसने पूर्व में मुहाना, श्याम नगर और झुंझुनूं में भी नकबजनी की वारदात की थी।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned