नाना ने लगाए थे मासूम को डाम

बच्चे को बिलखता देख मां ने किया था रोकने का प्रयास

By:

Published: 04 Dec 2015, 11:16 PM IST

दानपुर थाना क्षेत्र की कुण्डल पंचायत के उबापण गांव में ताण के उपचार के नाम पर मासूम को डाम लगाने वाला भोपा कोई और नहीं उसका नाना ही था। डाम लगाते समय मासूम की दर्द से छटपटाहट और विलाप से मां का कलेजा फट पड़ा और उससे देखा न गया। तब उसने पिता को ऐसा करने से रोका, लेकिन वह नहीं माना।
इस वारदात को लेकर एसपी आनंद शर्मा के निर्देश दिए पर पुलिस शुक्रवार को जब पीडि़त बच्चे के घर पहुंची तो यह हकीकत सामने आई। पुलिस के अनुसार बच्चे का नाना अभी फरार है।
दानपुर थाना प्रभारी शिवनाथ सिंह ने बताया कि राजस्थान पत्रिका में समाचार प्रकाशन के बाद एसपी ने डाम लगाने वाले भोपों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए। इस पर घोड़ी तेजपुर चौकी प्रभारी दिलीप कुमार मंजू पुत्री वेलजी के घर पहुंचे। मंजू ने पुलिस पूछताछ में बताया कि रविवार को उसके बेटे रितेश की तबीयत खराब हुई। इस पर वह बच्चे को अपने पिता खेडि़या निवासी वेलजी पुत्र फूलजी के घर ले गई और उसने चिकित्सालय चलने को कहा। तब वेलजी ने तान की बीमारी होना बताकर घर में उपचार की बात कही।
इसके बाद वेलजी ने गद्दे सीलने की सूई निकाली और उसे चिमनी पर गर्म कर रितेश के ललाट तथा पेट पर चार बार डाम लगाए। इस पर रितेश रोया तो उसनेे डाम लगाने से मना किया, लेकिन वेल जी ने बात नहीं मानी तथा कुछ और डाम लगाए। इससे रितेश की तबीयत ज्यादा खराब हो गई। इसके बाद 30 नवम्बर की सुबह बच्चे को महात्मा गांधी चिकित्सालय में भर्ती कराया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned