मीडिया दिखा रही सच: डॉ. भानावत


समाज में फैलाई सकारात्मकता

By: Rakhi Hajela

Published: 09 Jun 2021, 08:18 PM IST


जयपुर, 9 जून
प्रोफेसर डॉ. संजीव भानावत का कहना है कि भागती.दौड़ती जिंदगी में अचानक लगे ब्रेक और कोरोना वायरस के डर ने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डाला है। मगर मीडिया ने सच दिखाते हुए समाज में सकारात्मकता फैलाने का काम किया है।
राजस्थान विश्वविद्यालय जनसंचार केन्द्र के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो.संजीव भानावत, महात्मा ज्योति राव फुले यूनिवर्सिटी जयपुर के मीडिया डिपार्टमेंट की ओर से 'कोरोना महामारी मानसिक स्वास्थ्य पर मीडिया का प्रभावÓ विषय पर आयोजित नेशनल वेबिनार को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मीडिया सच दिखाए मगर डराए नहीं। इस बीमारी से घबराने की नहीं बल्कि सावधानी बरतने की जरूरत है। मीडिया ने लाइव स्टोरीज कवरेज कर हमारे हैल्थ केयर सिस्टम की खामियां उजागर की और सुधार करने पर सरकारों को मजबूर कर दिया।
बिगड़ते मानसिक स्वास्थ्य को सुधारें मीडिया
विशिष्ट वक्ता आईआईएमसी जम्मू के रीजनल डायरेक्टर प्रो. राकेश गोस्वामी ने कहा कि मीडिया जनता को डराने की बजाय उनकी बिगड़ती मेंटल हेल्थ को बचाए। अस्पतालों के बाहर लोगों की चीख़ .पुकार, ऑक्सीजन की कमी, रोते परिजन और जलती लाशें की तस्वीरें जरूरी हो तो ही दिखाएं। उन्होंने कहा कि महामारी के दौर में मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना जरूरी है। मीडिया ने जनता को सूचना देने और शिक्षित करने का काम कोरोनाकाल में बखूबी किया है। उन्होंने कहा कि मीडिया ऐसी समाचार व तस्वीरों को प्रकाशन नहीं करें जिससे पैनिक फैले और लोगों का मानसिक स्वास्थ्य खराब हो।
कार्यक्रम का संचालन एमजेएमसी की स्टूडेंट सलोनी नेहरू ने किया। अंत में मीडिया विद्वानों से विवि के स्टूडेंट्स ने मेंटल हेल्थ संबंधी सवाल जवाब किए।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned