इन दस जिलों के लिए दिल्ली से आई बंपर खुशी, नौजवानों के खिल उठेंगे चेहरे

इन दस जिलों के लिए दिल्ली से आई बंपर खुशी, नौजवानों के खिल उठेंगे चेहरे
SMS Hospital की नई पहल, अस्पताल का स्टाफ काउंटर से लाकर देगा दवा

Vikas Jain | Updated: 09 Oct 2019, 07:28:09 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

प्रदेश में 10 नए मेडिकल कॉलेजों के लिए मिली वित्तीय स्वीकृति

विकास जैन

जयपुर। केन्द्र सरकार ने राजस्थान में खेाले जाने वाले १० नए मेडिकल कॉलेजों के लिए वित्तीय स्वीकृति जारी कर दी है। कुछ दिन पहले केन्द्र ने इन कॉलेजों के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में अलवर, बांरा, बांसवाड़ा, चित्तौडगढ़, जैसलमेर, करौली, नागौर, श्रीगंगानगर, सिरोही एवं बूंदी जिले में 10 नए मेडिकल कॉलेजों के निर्माण के लिए केन्द्र सरकार से सेंट्रल स्पोंसर्ड स्कीम के तहत स्वीकृति प्राप्त हो गई है। प्रत्येक मेडिकल कॉलेज के लिए स्वीकृत 325 करोड़ रुपए की राशि में से ६० प्रतिशत यानि 195 करोड रुपए की राशि भारत सरकार देगी। इसके अलावा 40 प्रतिशत राशि 130 करोड़ रुपए की राशि राज्य सरकार की ओर से वहन की जाएगी। उन्होंने कहा कि इनके निर्माण के लिए शीघ्र कार्यवाही शुरू कर दी जाएगी।

इन मेडिकल कॉलेजों की स्थापना पर 1950 करोड़ रूपये केन्द्र एवं 1300 करोड़ रुपये राज्य सरकार की ओर से वहन किए जाएंगे। इन 10 मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति के बाद प्रदेश में मेडिकल कॉलेजों की संख्या बढ़कर 26 हो जाएगी। उन्होंने बतायाकि सीकर मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य लगभग पूर्ण हो रहा है एवं इसे अगले सत्र से प्रारंभ कर दिया जाएगा। धौलपुर में प्रदेश का 16 वा मेडिकल कॉलेज स्वीकृत है। इस समय जयपुर बीकानेर जोधपुर एवं कोटा के मेडिकल कॉलेज में 250-250 उदयपुर अजमेर एवं झालावाड़ में 200- 200 बाड़मेर में 100 तथा शेष छह मेडिकल कॉलेज में 150-150 सीटें हैं। इन्हें मिलाकर प्रदेश में कुल एमबीबीएस सीटों की संख्या बढ़कर 2600 हो गई हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned