राजस्थान में चिकित्सा कर्मियों के अवकाश निरस्त, आयुर्वेद विभाग के कार्यालयों में बनेंगे नियंत्रण कक्ष

प्रदेश में कोविड-19 महामारी को देखते हुए आयुर्वेद विभाग के उपनिदेशक स्तर के कार्यालयों में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए जाएंगे।

By: kamlesh

Updated: 16 Apr 2021, 09:21 PM IST

जयपुर। प्रदेश में कोविड-19 महामारी को देखते हुए आयुर्वेद विभाग के उपनिदेशक स्तर के कार्यालयों में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए जाएंगे। जहां विभाग की ओर से किए जा रहे प्रतिदिन के कार्यों की जानकारी एकत्रित की जाएगी। महामारी के चलते सभी चिकित्साकर्मियों के अवकाश तुरंत प्रभाव से निरस्त किए गए हैं।

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि महामारी से बचाव व जागरुकता सबंधी सरल व घरेलू उपाय की जानकारी विभाग के चिकित्सा स्वास्थ्य केन्द्रों से दी जाएगी। अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि आयुर्वेद, होम्यापैथी व यूनानी विभाग की ओर से आमजन की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए काढ़ा वितरित किया जाए।

कोविड-19 से सबंधित औषधियों को खरीदने व उनकी आपूर्ति सुनिश्चित करने के भी आधिकारियों को निर्देश दिए गए है। जिन क्षेत्रों में कोरोना का फैलाव अधिक है वहां आयुर्वेदीय बचाव, रोकथाम व चिकित्सा के लिए विशेष शिविर लगाए जाएंगे। आयुर्वेद, होम्योपैथी व यूनानी विभाग से सबंधित सभी दैनिक रिपोर्ट शाम 6 बजे तक राज्य सरकार को भेजना अनिवार्य है।

राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जोधपुर व राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय उदयपुर अपने संभाग में चल चिकित्सा शिविर आयोजित करेंगे। जहां नि:शुल्क औषधि वितरित की जाएगी। होम्योपैथिक चिकित्सा विभाग अपनी दोनों मोबाइल यूनिट के जरिए शिविर लगाएगा। सभी शिविर बिना किसी अवकाश के आयोजित होंगे।

coronavirus

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned