मराक मिराज-ग्वालियर में खुला कारगिल जीत का राज

Anand Kumar

Updated: 25 Jun 2019, 11:13:05 AM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने सोमवार को कहा कि 1999 में करगिल युद्ध के दौरान मिराज..2000 जेट विमानों के इस्तेमाल से युद्ध का रुख भारत के पक्ष में पलट गया था। उन्होंने साथ ही कहा कि तब इस बहुद्देश्यीय विमान के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया चल रही थी जिसे अभियान में तैनात करने के लिए तेज कर दिया गया था।धनोआ ने कहा कि मिराज..2000 के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया को तेज करने के लिए उसका टारगेटिंग पॉड्स और 1000..लेजर-निर्देशित बम (एलजीबी) से एकीकरण का काम रिकॉर्ड 12 दिन में पूरा किया गया था। धनोआ के साथ मध्य कमान के एयर आफिसर कमांडिंग इन चीफ एयर मार्शल राजेश कुमार भी मौजूद थे। उन्होंने कहा, विमान उन्नयन का काम जारी है और मिराज...2000 विमान के एक स्वाड्रन का उन्नयन किया जा चुका है। एक सवाल के जवाब में धनोआ ने कहा कि दो अगस्त 2002 को भारतीय वायुसेना ने जम्मू कश्मीर के केल क्षेत्र में एक प्रतिकूल लक्ष्य पर हमला किया था ताकि इसका एक स्पष्ट संदेश दिया जा सके कि आप यह नहीं कर सकते और निश्चित तौर पर हम कोई युद्ध शुरू करना नहीं चाहते।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned