scriptMistry Death dances on the streets of India,takes 16 lives every hours | Cyrus Mistry Death: भारत की सड़कों पर नाचती है मौत...हर घंटे लेती है 16 जान | Patrika News

Cyrus Mistry Death: भारत की सड़कों पर नाचती है मौत...हर घंटे लेती है 16 जान

locationजयपुरPublished: Sep 05, 2022 08:34:02 pm

Submitted by:

Anand Mani Tripathi

Cyrus Mistry Death: सड़क पर मौत का नाच केवल भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के हर कोने में हो रहा है। भारत की अगर बात करें तो यहां नियम का पालन न करना, बेहद खराब सड़क और शराब पीकर वाहन चलाना प्रमुख कारण है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो की माने तो देश में हर घंटे 16 लोग सड़क दुर्घटना में मारे जा रहे हैं। इसमें सबसे ज्यादा दुर्घटनाए बड़े शहरों में हो रही हैं। राजस्थान की बात करें तो सबसे ज्यादा मौत का तांडव जयपुर की सड़कों पर हुआ है। इसके अलावा इसमें दिल्ली, चेन्नई, बंगलुरू, मुंबई,कानपुर, लखनऊ,आगरा, हैदराबाद और पुणे शामिल है।

maut_ki_sadak.jpg
Cyrus Mistry Death

सड़क पर मौत का नाच केवल भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के हर कोने में हो रहा है। भारत की अगर बात करें तो यहां नियम का पालन न करना, बेहद खराब सड़क और शराब पीकर वाहन चलाना प्रमुख कारण है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो की माने तो देश में हर घंटे 16 लोग सड़क दुर्घटना में मारे जा रहे हैं। इसमें सबसे ज्यादा दुर्घटनाए बड़े शहरों में हो रही हैं। राजस्थान की बात करें तो सबसे ज्यादा मौत का तांडव जयपुर की सड़कों पर हुआ है। इसके अलावा इसमें दिल्ली, चेन्नई, बंगलुरू, मुंबई,कानपुर, लखनऊ,आगरा, हैदराबाद और पुणे शामिल है।

उत्तर प्रदेश सबसे घातक प्रदेश

उत्तर प्रदेश सड़क दुर्घटना में सबसे घातक प्रदेश है तो राजस्थान में ट्रको का सबसे बड़ा आतंक है। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ब्राजील घोषणापत्र में भारत में 2020 तक 50 प्रतिशत तक सड़क दुर्घटनाओं और उससे होने वाले मृत्यु को कम करने का लक्ष्य रखा गया था फिलहाल इसका कोई असर सड़क पर नहीं दिखाई दे रहा है। देश में 2021 में 1ण्55 लाख से अधिक लोगों ने अपनी जान गवांई है। हर दिन 426 लोग सड़क दुर्घटना में गंवा देते हैं।

साइरस मिस्त्री की तरह राजस्थान की सड़क दुर्घटना में हुई थी राजेश पायलट और साहिब सिंह वर्मा की मौत

मंत्रालय ने की मौत स्थल की पहचान
दुर्घटना कम करने के लिए देश भर में ऐसी जगहों की पहचान की गई है,जहां सर्वाधिक दुर्घटनाएं होती हैं। 2011 से 2014 के दौरान दुर्घटनाओं में हुई मौतों के आधार पर ***** ब्लैक स्पॉट की पहचान की गई है। इनमें से 150 पीडब्ल्यूडी के दायरे में हैं। 501 एनएचएआई के साथ है और 138 राज्य सड़कों और अन्य एजेंसियों के दायरे में है। 4 सालों के दौरान 17,47,094 सड़क दुर्घटनाएं सामने आई हैं। इन हादसों में 5,82,157 लोगों ने अपनी जान गंवाई हैं।

सड़क दुर्घटनाओं में 18.46% की कमी

गडकरी ने बताया कि 2017 में 4,64,910 सड़क दुर्घटनाएं हुईं। साल 2020 में सड़क दुर्घटनाओं में कमी आई इस साल 3,66,138 दुर्घटना हुई। वहीं, साल 2019 से तुलना की जाए तो साल 2020 में 18.46% कम दुर्घटना हुई। साल 2020 में 1,31,714 लोगों ने अपनी जान गंवाई। ये 2019 से 22.84%कम है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.