मां दौड़ गई 100 किलोमीटर और बच्चा सोता रहा

Surendra Kumar Samaria

Publish: Nov, 10 2018 04:37:10 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 04:37:11 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India

जिस वक्त एक साल आयु के बच्चे को मां के गोद और लोरी की बहुत जरूरत होती है। उस समय ही बच्चे को पति के साथ छोड़कर मां 100 किलोमीटर दौड़ गई। जयपुर सिरसी रोड निवासी अल्मास खान को दौडऩे की ललक ऐसी है कि सुबह पति और बच्चा सोता रहता है और वो दौडऩे निकल जाती है। पीछे से बच्चा उठने पर पिता संभाल लेते है, लेकिन ज्यादा रोने पर मां को फोन की बुला लेते है। मां, पिता और बच्चा की यह प्रोत्साहन करने वाली कहानी सच्ची है। अल्मास खान ने 10 अक्टूबर से लेकर 19 अक्टूबर तक 10 दिन में 100 किलोमीटर की दौड़ पूरी की। मां की दौड़ में बच्चे ने भी सोकर पूरा साथ निभाया।

 

हाउसवाइफ अल्मास खान ने बताया कि उनका एक साल का बच्चा है। उसके साथ ये चेलेंज लेना वाकई एक चेलेंज रहा, लेकिन अपने आप को साबित करने के लिए मैंने चेलेंज एक्सेप्ट किया। पूरा भी किया। अपनी सेहत के लिए चाहे जैसी भी परिस्थिति हो हमें समय निकलना ही चाहिए। वहीं, पेशे से डॉक्टर रशिम कटारिया ने कहा कि एक साल पहले तक शर्ट का बटन बंद नहीं कर पाता था। रनिंग से आज बेहतर फील करता हूं। उसी शर्ट का बटन भी बंद कर पाता हूं। बीएसएफ से रिटायमेंट ले चुके गोपेश कुमार का कहना है कि ट्रेनिंग के दौरान खूब दौड़े। अब अपने बेटे के बढ़ते वजन को कम करने के लिए दौड़ता हूं। बेटे की प्रेरणा बनने के लिए दौड़ रहा हूं।

 

शनिवार को सेंट्रल पार्क में एयू बैंक जयपुर मैराथन की ओर से सेंचुरी रन चैलेंज के विजेताओं को पदक प्रदान किए गए। पदक पाकर रनर्स के चेहरे खिले। इस मौके पर एयू बैंक जयपुर मैराथन के सीईओ मुकेश मिश्रा, जयपुर रनर्स क्लब के फाउंडर रवि गोयनका ने रनर्स को प्रोत्साहित किया। सीईओ मिश्रा ने बताया कि इस रनिंग चैलेंज में 500 से ज्यादा लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवाया। इसमें 150 लोगों ने चेलेंज को पूरा किया।

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned