पिंकसिटी में पहुंचे बारिश वाले बादल, कहां से शुरु होकर कहां पहुंचते बादल, जाने मानसून का पूरा सफर

Latest Weather News : Monsoon 2019 मानसून बंगाल की खाड़ी और अरब सागर होते हुए पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब होते हुए देश में सबसे आखिरी में राजस्थान में प्रवेश करता है। जयपुर में 5 जुलाई तक बारिश का दौर शुरू होता है।

 

 

 

By: Deepshikha Vashista

Published: 07 Jul 2019, 02:15 PM IST

निशी जैन / जयपुर. मानसून की पहली फुहारों से पिंकसिटी खिल उठी। मौसम सुहाना होने के साथ ही जयपुराइट्स का मानसून का बेसब्री से इंतजार खत्म हुआ। आने वाले दिनों में लोगों को अच्छी बारिश उम्मीद ( Rainfall in Jaipur Rajasthan ) है। जानते हैं मानसून के मिजाज से जुड़े कुछ फैक्ट्स-

 

 

मानसून ( monsoon 2019 ) की एंट्री का रूट

अरब सागर व बंगाल की खाड़ी में उच्च वायुदाब से उठी मानसूनी हवाएं नीचे की तरफ बहती हैं। ये अरब सागर व बंगाल की खाड़ी दोनों के ऊपर बनने वाले एयर सिस्टम से मूव करता है। मुंबई में 1 जून और असम में 10 जून तक पहुंचने के बाद देशभर में सक्रिय हो जाता है।

 

 

ऐसे लगाते हैं पूर्वानुमान

मौसम विभाग कई महीने पहले से तापमान और हवा समेत कई पैरामीटर्स (पहले 16, अब 8) का अध्ययन शुरू कर देता है। मानसून की अवधि, गति और स्थिति का पता लगाने के विभाग जनवरी में मध्य भारत, मार्च में उत्तर भारत, अप्रैल में उत्तरी गोलार्ध की सतह और मई में पूर्वी समुद्री तट के अधिकतम-न्यूनतम तापमान व आंकड़ों की स्टडी करके मानसून का पूर्वानुमान लगाता है।


पिंकसिटी में बारिश वाले बादल

बंगाल की खाड़ी और अरब सागर की मानसूनी हवाएं एक धारा में सम्मिलित हो जाती हैं जिससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, पूर्वी राजस्थान आदि बचे हुए हिस्सों में 1 जुलाई और जयपुर में 5 जुलाई तक बारिश का दौर शुरू होता है।


लास्ट में आता है राजस्थान

राजस्थान में मानसून बंगाल की खाड़ी और अरब सागर होते हुए पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब , पूर्वी राजस्थान में प्रवेश करता हैं। देश में सबसे आखिरी में मानसून राजस्थान प्रवेश होता है। मानूसन की वर्तमान स्थिति के आधार पर मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि नॉर्थ इंडिया में 94 प्रतिशत मानसून की संभावना हैं।

 

 

 

 

वैदरपीडिया
- अरबी शब्द 'मौसिन' (मॉवसिम भी) से चलन में आया मानसून
- अरब देशों में समुद्र में नाव ले जाने वाले मल्लाहों ने यह शब्द ईजाद किया था।
- मानसून हिन्द महासागर एवं अरब सागर की ओर से भारत के दक्षिण-पश्चिम तट पर आनी वाली हवाएं हैं, जो पाकिस्तान, बांग्लादेश में भी चलती है।

 

मानसून ने एमपी व गुजरात के अलावा आधे राजस्थान को कवर कर लिया है। गत वर्ष मानसून की अरब सागर व बंगाल की खाड़ी दोनों शाखाएं सक्रिय होने से मानसून 27 जून को ही जोधपुर पहुंच गया था। इस वर्ष मानसून कुछ दिन देरी से पहुंचने की संभावना थी। अब पूरे राजस्थान में मानसून पहुंच चुका हैं।

शिव गणेश, जयपुर डायरेक्टर, मौसम विभाग

Deepshikha Vashista
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned