सावन का तीसरा सोमवार,उम्मीद से कम मेघ मल्हार

प्रदेश के 29 जिलों में औसत से कम हुई अब तक बारिश
प्रदेशभर में मानसून की सक्रियता कम
पूर्वोत्तर राज्यों में ठहरे मेघ, प्रदेश में बढ़ रहा झमाझम बारिश का इंतजार

By: anand yadav

Updated: 20 Jul 2020, 10:18 AM IST

जयपुर। प्रदेश में तय समय से पहले हुई दक्षिण पश्चिमी मानसून की एंट्री के बाद भी मेघ प्रदेश में उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे हैं। प्रदेश के करीब 29 जिलों में अब भी औसत के कम बारिश हुई है तो दूसरी तरफ झमाझम बारिश होने की उम्मीदें भी लगातार बढ़ रही हैं। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार पूर्वोत्तर राज्यों में मेघ जमकर बरस रहे हैं और कुछ राज्यों में हुई अतिवर्षा से बाढ़ के हालात भी बन गए हैं। जबकि प्रदेश में अब भी मूसलाधार बारिश का दौर शुरू होने में सप्ताहभर तक का इंतजार प्रदेशवासियों को करना पड़ सकता है। प्रदेश में फिलहाल मानसून की झड़ी लगने की अनुकूल परिस्थितियां नहीं बनने से मेघों की आवाजाही रहने पर भी झमाझम बारिश के दौर पर मानों ब्रेक लगे हुए हैं।

सावन मास का तीसरा सोमवार, हरियाली अमावस्या लेकिन मेघ नहीं मेहरबान

आज सावन मास का तीसरा सोमवार है और बादलों की आवाजाही लगातार प्रदेश के कई जिलों में बनी हुई है। सावन मास करीब आधा बीत चुका है और अब तक प्रदेशभर में औसत से कम हुई बारिश चिंता का कारण बनने लगी है। बादल छाए रहने पर भी बारिश नहीं होने पर किसानों की उम्मीदों पर भी पानी फिरता नजर आने लगा है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार फिलहाल मानसून पूर्वोत्तर राज्यों में जमकर मेहरबान हो रहा है। प्रदेश में पश्चिमी हवाएं चलने और अनुकूल परिस्थितियां नहीं बनने के कारण तय समय से पहले हुई मानसून की दस्तक के बावजूद प्रदेश में राहत की बौछारें उम्मीद से कम गिरी हैं।

29 जिलों में औसत से वर्षा,झमाझम बारिश का बेसब्री से इंतजार

मौसम विभाग की सूचना के अनुसार अब तक सामान्य वर्षा 160.88 मिमी है जबकि अभी तक प्रदेशभर में 121.20 मिमी बारिश ही दर्ज हुई है। राजधानी जयपुर में भी इस बार मानसूनी मेघ उम्मीद से कम बरसे हैं। राजधानी में अब तक 165 मिमी बारिश होनी चाहिए लेकिन अब तक महज 102 मिमी बारिश ही रेकॉर्ड हो सकी है। ऐसे में प्रदेश के चार जिलों को छोड़कर शेष 29 जिलों में वर्षा का ग्राफ औसत से भी कम रहा है।

मौसम केंद्र दिल्ली के पूर्वानुमान के अनुसार अगले 48 घंटे में पूर्वोत्तर राज्यों में तेज बारिश होने के आसार हैं। उत्तराखंड,पंजाब,हरियाणा और प्रदेश के उत्तर पूर्वी इलाकों में मानसून की सक्रियता बढ़ने की उम्मीद है। वहीं अगले चार दिन में अरूणाचल प्रदेश,उत्तराखंड,उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश होने की आशंका है।

अगले चार दिन छाएगी मायूसी
मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में अगले चार दिन मौसम शुष्क रहने और पारे में बढ़ोतरी की आशंका है। हालांकि अगले 24 घंटे में प्रदेश के पूर्वोत्तर के कुछ इलाकों में बादलों आवाजाही रहने और छिटपुट बौछारें गिरने की संभावना है। लेकिन प्रदेश के पश्चिमी मैदानी इलाकों में मौसम शुष्क रहने व बारिश का दौर थमे रहने की आशंका है।

राजधानी में छाए मेघ, बारिश का इंतजार
सावन के तीसरे सोमवार को राजधानी जयपुर में सुबह से छाए बादलों से राहत की बौछारें गिरने की उम्मीद बंधी है। शहर में सोमवार सुबह करीब नौ किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से पश्चिमी हवाएं चलने पर सुबह मौसम शुष्क रहा। वहीं सुबह आठ बजे शहर का अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड हुआ। जयपुर मौसम केंद्र के पूर्वानुमान के अनुसार शहर में बादलों की आवाजाही सोमवार तड़के से बनी हुई है और दोपहर तक शहर में रिमझिम बारिश होने की संभावना है।


बीती रात प्रदेश में पारे का हाल

माउंट आबू—16.4
चूरू— 22.4
पिलानी— 23.3
अलवर— 26.2
चित्तौड़— 26.4
वनस्थली— 26.4
सीकर— 27
श्रीगंगानगर— 27.1
जयपुर— 27.6
भीलवाड़ा— 27.6
जैसलमेर— 27.8
अजमेर— 28
फलोदी— 28.6
बीकानेर— 28.8
बाड़मेर— 29
बूंदी— 29.2
कोटा— 29.2
जोधपुर— 29.6

— न्यूनतम तापमान डिग्री सेल्सियस में


कहां कितने प्रदेश में बरसे मेघ
दौसा— 72
नागौर— 63
धौलपुर— 59
श्रीगंगानगर— 55
टोंक— 41
सीकर— 38
सवाई माधोपुर— 37
करौली— 25
हनुमानगढ़— 20
भीलवाड़ा— 20
जयपुर तहसील— 16

— बारिश मिमी में

Show More
anand yadav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned