चन्द्रमा और मंगल का मेष में मिलन

चन्द्रमा और मंगल (Moon and Mars) का गुरुवार को मेष राशि (Aries) में मिलन हुआ। चन्द्रमा ने तड़के 4 बजकर 33 मिनट पर मेष राशि प्रवेश किया, वहीं मंगल सुबह 10 बजकर 17 मिनट पर मीन राशि को छोडकर मेष राशि में आए। मंगल स्वराशि मेष में 21 फरवरी 2021 तक रहेगा। मंगल के स्वराशि में प्रवेश करने से रियल स्टेट में मंदी का दौर खत्म होना शुरू होगा।

By: Girraj Sharma

Published: 24 Dec 2020, 09:12 PM IST

चन्द्रमा और मंगल का मेष में मिलन
— चन्द्रमा और मंगल दोनों आए एक साथ
— 61 दिन तक मंगल रहेंगे मेष राशि में

जयपुर। चन्द्रमा और मंगल (Moon and Mars) का गुरुवार को मेष राशि (Aries) में मिलन हुआ। चन्द्रमा ने तड़के 4 बजकर 33 मिनट पर मेष राशि प्रवेश किया, वहीं मंगल सुबह 10 बजकर 17 मिनट पर मीन राशि को छोडकर मेष राशि में आए। मंगल स्वराशि मेष में 21 फरवरी 2021 तक रहेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. दामोदर प्रसाद शर्मा ने बताया कि मेष राशि मंगल की स्वराशि भी है। मंगल के स्वराशि में प्रवेश करने से रियल स्टेट में मंदी का दौर खत्म होना शुरू होगा। भूमि, भवन का कारोबार गति पकड़ेगा। लोगों का रुझाव रियल स्टेट की ओर बढेगा। वैज्ञानिक क्षेत्र में विशेष सफलता मिल सकती है। मंगल को भूमि पुत्र कहा जाता है, ऐसे में किसानों के लिए आंदोलन बढ़ सकता है।

ज्योतिषाचार्य डॉ. रवि शर्मा ने बताया कि मंगल का राशि परिवर्तन 61 दिनों के लिए हो रहा है। मंगल की एक राशि मेष है और दूसरी वृश्चिक राशि है। ऐसे में मंगल जब भी अपने भ्रमण काल में जिस भी किसी राशि में जाता है तो उस समय को किसी न किसी कारण से विशिष्ट माना जाता है। मंगल का मेष राशि में जाना इस समय मंगल के नक्षत्र परिवर्तन को भी दर्शाएगा, मंगल इस समय अश्विनी नक्षत्र में गोचर करेंगे। अश्विनी नक्षत्र केतु की अधिपत्य का नक्षत्र है। ऐसे में मंगल इस समय केतु के प्रभाव क्षेत्र में भी होगा।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned