33 हजार से अधिक तालाबों का होगा जीर्णोद्धार

Rakhi Hajela

Updated: 21 Jan 2020, 04:17:02 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

गर्मियों में कई क्षेत्रों में पेयजल की समस्या के मद्देनजर बिहार सरकार ने भूजल स्तर में सुधार के लिए अब तालाबों के संरक्षण का काम प्रारंभ कर दिया है। राज्य सरकार ने जल जीवन हरियाली अभियान के तहत अब तक एक लाख, 33 हजार 342 तालाबों की पहचान की है, जिनके पर्यवेक्षण का काम जारी है। इस बीच सरकार ने फैसला किया है कि वह उन सभी 33 हजार से अधिक तालाबों का जीर्णोद्घार करवाएगी।
मुख्यमंत्री कर रहे आमजन को जागरुक
इस अभियान को लेकर राज्य के मुख्यमंत्री विशेष रूप से चिंतित हैं और वह पूरे राज्य में यात्रा कर लोगों को जल संरक्षण के लिए जागरूक कर रहे हैं। आधिकरिक सूत्रों के मुताबिक, 33 हजार 342 तालाबों की साफ सफाई और उड़ाही का काम किया जाना है। अभियान की नोडल एजेंसी ग्रामीण विकास विभाग ने जिला अधिकारियों को जल्द ही अन्य तालाबों और पोखरों की पहचान करने के निर्देश दिए हैं। पर्यवेक्षण रिपोर्ट के मुताबिक, 33 हजार 342 तालाबों में से 30 हजार से अधिक तालाबों में पानी पाया गया है, जबकि 13 हजार ऐसे तालाब भी सामने आए हैं, जिनपर अतिक्रमण है। इनमें 2 हजार 354 तालाबों पर स्थायी अतिक्रमण हुआ है। सूत्रों का कहना है कि सबसे अधिक रोहतास जिले में 1 हजार 188 तालाबों पर अतिक्रमण की बात सामने आई है।
गत वर्ष हुई थी जल जीवन अभियान की शुरुआत
उल्लेखनीय है कि सरकार ने पिछले वर्ष अक्टूबर माह में जल.जीवन.हरियाली अभियान की शुरुआत की, जिसका लक्ष्य इन तालाबों को अतिक्रमण से मुक्त कराना और इनका जीर्णोद्घार भी कराना है। इसके अलावा नए सिरे से तालाबों की खुदाई भी होनी है। राज्य सरकार ने इस अभियान के लिए अगले तीन साल में 24 हजार 524 करोड़ रुपये की राशि खर्च करने का लक्ष्य रखा है।1 लाख 33 हजार 342 तालाबों का पता लगायाइस अभियान के तहत पूरे राज्य के स्थानीय प्रशासन ने अभी तक 1 लाख 33 हजार 342 तालाबों का पता लगाया है। प्रशासन ने अब तक 98 हजार तालाबों का निरीक्षण किया है, जिनमें से सिर्फ 30 हजार 970 तालाबों में ही समुचित जलराशि मिली। हालांकि अभी लगभग 35 हजार तालाबों का निरीक्षण किया जाना है। बहरहाल, सरकार ने अभी 33 हजार से अधिक तालाबों के जीर्णोद्घार की योजना बनाई है, जिनके जल संचय की स्थिति बहुत नाजुक है। इनमें से 16 हजार से अधिक तालाबों की उड़ाही मशीनों की मदद से होगी और शेष 17 हजार तालाबों की उड़ाही परंपरागत तरीके से की जाएगी।
क्या है जल जीवन अभियान ?
जल जीवन हरियाली अभियान की शुरुआत गत वर्ष अक्टूबर में बिहार में हुई थी।अभियान के तहत पूरे प्रदेश में हर जिले की सैटेलाइट मैपिंग होगी।राजस्व और भूमि सुधार विभाग द्वारा पहचान किए गए तालाबों, आहर पाइन और कुओं जिन पर अवैध कब्जा है। उनको सरकार अतिक्रमण मुक्त कराया जाएगा। सड़कों के किनारे कई लाइन में पेड़ लगाए जाएंगे, बांधों, सार्वजनिक जगहों और निजी जगहों पर भी पौधरोपण किया जाएगा।सोलर लाइट को बढ़ावा देने के लिए सरकारी इमारतों पर सोलर पैनल लगाए जाएंगे। दो नये सोलर प्लांट भी लगाए जाएंगे।पेड़.पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों पर कारवाई की जाएगी।वर्षा के जल संचयन के लिए जगह.जगह पर वॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट बनाए जाएंगे।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned