scriptMotivational : From Truck Driver's Family Four Children Doing MBBS | पिता ट्रक ड्राइवर, एक परिवार के चारों बच्चे कर रहे MBBS | Patrika News

पिता ट्रक ड्राइवर, एक परिवार के चारों बच्चे कर रहे MBBS

locationजयपुरPublished: Nov 23, 2022 11:48:17 am

Submitted by:

santosh Trivedi

पंखों से नहीं, हौसलों से उड़ान होती है... यह कर दिखाया कालख ग्राम पंचायत के ढकरवालों की ढाणी निवासी एमबीबीएस कर रहे एक ही परिवार के चार बच्चों ने।

motivational story

सलाउद्दीन कुरैशी/जोबनेर (जयपुर). पंखों से नहीं, हौसलों से उड़ान होती है... यह कर दिखाया कालख ग्राम पंचायत के ढकरवालों की ढाणी निवासी एमबीबीएस कर रहे एक ही परिवार के चार बच्चों ने। सभी चाचा-ताऊ के बेटे हैं और सभी के पिता ट्रक ड्राइवर हैं। यह ढाणी अब डॉक्टरों की ढाणी के नाम से जानी जाती है।

भोलूराम के बेटे अर्पित का इसी साल एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर में चयन हुआ है। अर्पित के बड़े भाई रमेश ढकरवाल को पिछले साल जेएलएन मेडिकल कॉलेज अजमेर में एडमिशन मिला था। चचेरे भाई कमलेश का एडमिशन पिछले वर्ष एसके मेडिकल कॉलेज सीकर में हुआ था। एक और चचेरे भाई सुनील का प्रवेश भी पिछले वर्ष जेएलएन मेडिकल कॉलेज अजमेर में हुआ था।

यह भी पढ़ें

चर्चा में छात्रसंघ अध्यक्ष निर्मल चौधरी की कुर्सी, जानिए क्यों खास है कुर्सी

किसानी छोड़ी तो करनी पड़ी ड्राइवरी
अर्पित ने बताया कि सभी भाई किसान परिवार से हैं। पानी की कमी के चलते जब खेती ने धोखा देना शुरू किया तब पिता घर परिवार का पेट पालने के लिए ड्राइवरी करने लगे। भाइयों की कोचिंग की फीस अकेले कोई नहीं भर सकता था तो कभी कर्ज घर वाले मिलकर भर देते थे। घर में दूध से जो भी पैसे मिलते सब पढ़ाई पर खर्च होते रहे।

यह है संकल्प...
चारों भाइयों का संकल्प है कि वे डॉक्टर बनकर गरीबों की सेवा करेंगे व बेसहारा बच्चों को डॉक्टरी की पढ़ाई की तैयारी कराएंगे। ढाणी के अन्य युवा भी इनसे प्रेरित होकर मेडिकल की तैयारी में जुटे हुए हैं।

यह भी पढ़ें

बेरोजगारों को मिलेगी नौकरी: सीएम अशोक गहलोत ने किया बड़ा एलान

फीस के पैसे कर्ज लेकर भरने पड़े
इसी साल एमबीबीएस के लिए चयनित अर्पित के पिता भोलूराम ने बताया कि पढ़ा-लिखा नहीं होने के बावजूद उन्होंने बच्चों की पढ़ाई में दिक्कत नहीं आने दी। कई बार फीस के पैसे कर्ज लेकर भरने पड़े मगर हिम्मत नहीं हारी। पढ़ाई के साथ चारों बच्चे सुबह-शाम डेयरी पर दूध देने जाते और खेती में हाथ भी बंटाते थे।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

'द कश्मीर फाइल्स' को IFFI ज्यूरी ने बताया 'वल्गर प्रोपगंडा', अनुपम खेर ने कहा-' शर्मनाक'नवजोत सिंह सिद्धू को मिलेगी बड़ी राहत! जल्द मिल सकती है जेल से रिहाईगुजरात में आज शाम थम जाएगा पहले चरण का चुनाव प्रचार, बीजेपी और आप की ताबड़तोड़ रैलियांIND vs NZ : तीसरे वनडे में इस दिग्गज खिलाड़ी का बाहर होना तय, देखें संभावित प्लेइंग इलेवनVideo: जानिए कैसे और क्यों बढ़ रही सरकार व सुप्रीम कोर्ट की तनातनीगुजरात: जूनागढ़ में जहरीली शराब पीने से 2 की मौत, एक की हालत गंभीरगोमती रिवर फ्रंट स्कैम: CBI की राडार पर फिर आए शिवपाल, निशाने पर IAS भीबच्चियों से रेप के मामले यूपी में सबसे ज्यादा, जानिए कितनों को मिल पाती है सजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.