किरोड़ी की रणनीति के आगे 'इंटेलीजेंस फेल', आमागढ़ जाने की भनक तक नहीं लगी

बीहड़ जगहों के बीच से गुजरकर 70 वर्षीय भाजपा सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने अल सुबह ही आमागढ़ में झंडा फहराकर एक बार प्रदेश की इंटेलीजेंस को फेल साबित करवा दिया है। किरोड़ी रात के अंधेरे में ही आमागढ़ के लिए समर्थकों के साथ रवाना हो गए और आईबी को इसकी भनक तक नहीं लगी।

By: Umesh Sharma

Published: 01 Aug 2021, 07:18 PM IST

जयपुर।

बीहड़ जगहों के बीच से गुजरकर 70 वर्षीय भाजपा सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने अल सुबह ही आमागढ़ में झंडा फहराकर एक बार प्रदेश की इंटेलीजेंस को फेल साबित करवा दिया है। किरोड़ी रात के अंधेरे में ही आमागढ़ के लिए समर्थकों के साथ रवाना हो गए और आईबी को इसकी भनक तक नहीं लगी।

यह पहला मौका नहीं है, जबकि किरोड़ी की रणनीति को आईबी भांप नहीं पाई। दौसा जिले के महुआ में पुजारी शंभु शर्मा का शव लेकर किरोड़ी लाल मीणा सिविल लाइंस पहुंच गए और आईबी को कानोंकान इसकी खबर तक नहीं हुई। इसके बाद मुख्यमंत्री निवास के सामने अनाथ बच्चों के साथ किरोड़ी ने धरना दिया। पुलिस के हाथ-पांव फूल गए और आईबी को उनके आने की भनक तक नहीं लगी। महिला अपराधों को लेकर कमिश्नरेट घेराव के दौरान भी पुलिस को किरोड़ी के आने की सूचना तक नहीं मिल पाई। ऐसे में आईबी की कार्यशैली को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। आईबी के इस फेल सूचना तंत्र की वजह से पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। किरोड़ी को आमागढ़ जाने से रोकने के लिए पुलिस ने सभी रास्तों पर सख्त पहरा लगाया था। मगर किरोड़ी भी ऐसे रास्ते से आमागढ़ पहुंच गए कि पुलिस को भी खबर नहीं लगी।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned