scriptMustard oil declines, food will be cheaper in the cold winter | Mustard Crop: सरसों तेल में गिरावट, कड़ाके की सर्दी में भजिए खाना होगा सस्ता | Patrika News

Mustard Crop: सरसों तेल में गिरावट, कड़ाके की सर्दी में भजिए खाना होगा सस्ता

locationजयपुरPublished: Sep 29, 2022 04:54:22 pm

देश में 111 लाख मैट्रिक टन सरसों के उत्पादन में करीब 50 फीसदी हिस्सा राजस्थान का रहता है। यदि राजस्थान को सरसों उत्पादक राज्य घोषित कर दिया जाए तो किसानों को खादए बीज और अन्य आदानों पर अनुदान मिलना प्रारंभ हो जाएगा।

musterd.jpg
देश में 111 लाख मैट्रिक टन सरसों के उत्पादन में करीब 50 फीसदी हिस्सा राजस्थान का रहता है। यदि राजस्थान को सरसों उत्पादक राज्य घोषित कर दिया जाए तो किसानों को खादए बीज और अन्य आदानों पर अनुदान मिलना प्रारंभ हो जाएगा। मस्टर्ड ऑयल प्रॉड्यूशर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया यानि मोपा के संयुक्त सचिव अनिल चतर का कहना है कि देश में इस साल 111 लाख मैट्रिक टन सरसों का उत्पादन आंका गया है, उसमें से अभी तक 75 लाख मैट्रिक टन के करीबन फरवरी माह से अब तक पिलाई हो गई, बकाया 30 लाख मैट्रिक टन के करीबन स्टॉक अभी देश में किसानों के पास हैं एवं 5 से 6 लाख मैट्रिक टन सरसों उधोग एवं ट्रेड के पास हैं।
यह भी पढ़ें

जीरे का छौंका पड़ेगा महंगा, 300 रुपए किलो तक जा सकते है दाम

देश में सरसों का उत्पादन 85 लाख मैट्रिक टन
पिछले साल की तुलना में देश में सरसों का उत्पादन 85 लाख मैट्रिक टन के करीब हुआ था एवं इस समय सरसों का स्टॉक पड़ा है, जो कि 35 से 36 लाख मैट्रिक टन हैं। सरसों में पिछले एक माह में 750 रूपए प्रति क्विण्टल की मंदी आ गई। एक माह पूर्व सरसों का भाव 7000 रुपए 42 प्रतिशत तेल कंडीशन जयपुर डिलीवरी था, जो कि आज भाव 6250 रुपए प्रति क्विण्टल रह गया। भारत सरकार ने तेल तिलहन में स्टॉक सीमा लगा रखी है, जबकि गत वर्ष के मुकाबले सभी तेल तिलहन में 35 से 40 प्रतिशत की मंदी आ गई हैं। ऐसे समय में स्टॉक सीमा हटाने के लिए मोपा ने भारत सरकार को लिखा हैं कि वर्तमान में देश में 35 लाख मैट्रिक टन सरसों, 30 लाख मैट्रिक टन सोयाबीन एवं आने वाले दिनों में 120 लाख मैट्रिक टन सोयाबीन, 80 लाख मैट्रिक टन मूंगफली एवं अन्य तिलहन 20 से 25 लाख मैट्रिक टन कुल मिलाकर 300 लाख मैट्रिक टन के करीब तिलहन देश मे तैयार खड़ा हैं एवं दामों में भी भारी मंदी आ गई हैं ऐसे में समय रहते स्टॉक सीमा नहीं हटाई गई तो आने वाले समय में किसान का माल बहुत ही कम दाम में बाजार में बिकेगा, जिसका सीधा असर रबी की फसल पर पड़ेगा और एक बार किसान पुनः तिलहन की खेती से दूर हो जाएगा और हमें फिर विदेशी तेलों पर निर्भर रहना पड़ेगा।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र: बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज का हिस्सा गिरा, 20 यात्री घायल, 8 की हालत गंभीरGujarat Elections 2022: PM मोदी का कांग्रेस पर निशाना, कहा- देश में चरम पर था आतंकवादश्रद्धा मर्डर केस: सोमवार को आफताब के नार्को टेस्ट के लिए FSL में तैयारी, जानिए तिहाड़ में कैसे गुजरी पहली रातराजस्थान में बैकफुट पर कांग्रेस, पार्टी में फूट का डर, गहलोत खेमा शांत, पायलट समर्थक मुखरकेजरीवाल का बड़ा दावा! बोले- लिख कर देता हूं गुजरात में बन रही AAP की सरकारBJP का केजरीवाल पर हमला, संबित पात्रा बोले, सत्येंद्र जैन के लिए जेल में रखे गए हैं 10 लोगपूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहारनपुर दो दिवसीय दौरे पर, कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकतमन की बात में पीएम मोदी ने कहा, जी-20 की अध्यक्षता मिलना गौरव की बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.