सहीराम के बाद अब नारकोटिक्स विभाग के अन्य अधिकारी आए लपेटे में

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: pushpendra shekhawat

Published: 04 Apr 2019, 04:08 PM IST

जयपुर। पिछले दिनों भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो कोटा की टीम ने नारकोटिक्स विभाग के उपायुक्त सहीराम को रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसी कड़ी में गुरुवार को जयपुर मुख्यालय के निर्देश पर विभिन्न जिलों की एसीबी टीम ने कोटा, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़ और राजसमंद में अलग—अलग नारकोटिक्स विभाग के अधिकारियों के घरों पर दबिश दी। इसके साथ ही चित्तौड़गढ़ के अफीम मुखिया के घर पर भी कार्रवाई की गई। इस कार्रवाई के दौरान एसीबी टीम को काफी मात्रा में मादक पदार्थ और अवैध हथियार बरामद किए हैं। एसीबी की कार्रवाई अभी जारी है। एसीबी मुख्यालय से पूरी कार्रवाई की मॉनिटरिंग की जा रही है। इस संबंध में जयपुर में शाम को डीजी कांफ्रेंस करके मामले का खुलासा करेंगे।

 

सूत्रों के अनुसार कोटा और राजसमंद एसीबी की संयुक्त टीम ने गुरुवार को चित्तौड़गढ़ के नारकोटिक्स विभाग के अधिकारी सुधीर यादव के मकान पर दबिश दी। यादव के घर से एसीबी को 14 ग्राम ब्राउनशुगर और 82 हजार रुपए की नकदी बरामद की। पूछताछ के दौरान टीम को अफीम मुखिया गोरा जी का निंबाड़ा गांव स्थित छगनलाल पुत्र नंदराम जाट के बारे में भी पता चला। उसके यहां दबिश में 136 किलोग्राम अफीम, तीन अवैध पिस्टल, तीन जिंदा कारतूस, 22 लाख रुपए नकद तथा 8 क्विंटल 10 किलो अवैध डोडा चूरा बरामद किया है। एसीबी की कार्रवाई अभी तक जारी है। एसीबी को छगन के घर से नारकोटिक्स विभाग के अधिकारियों के बीच हिसाब किताब की डायरियां भी बरामद हुई है।

 

अन्य जगह भी कार्रवाई
एसीबी सूत्रों के अनुसार टीम ने नारकोटिक्स विभाग के अन्य अधिकारियों के यहां भी कार्रवाई की है। कार्रवाई में बड़ी मात्रा में नकदी, शराब और अन्य मादक पदार्थ मिले हैं। एसीबी की इस कार्रवाई से नारकोटिक्स विभाग में हलचल मची हुई है।

 

सहीराम को मिली जमानत

गौरतलब है कि करीब ढाई माह पहले एक लाख रुपए रिश्वत लेने के मामले में नारकोटिक्स विभाग के अतिरिक्त आयुक्त सहीराम मीणा को एसीबी ने गिरफ्तार किया था। बुधवार को मीणा को हाईकोर्ट से जमानत मिली थी।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned