मोदी-जिनपिंग मुलाकात : 18 प्रकार की सब्जियों और फलों से सजाया गया स्वागत गेट

मोदी-जिनपिंग मुलाकात : 18 प्रकार की सब्जियों और फलों से सजाया गया स्वागत गेट
मोदी-जिनपिंग मुलाकात : 18 प्रकार की सब्जियों और फलों से सजाया गया स्वागत गेट

Vijayendra Kumar Rai | Updated: 12 Oct 2019, 12:45:39 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को दो दिवसीय दौरे पर भारत आए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का महाबलीपुरम में प्राचीन रीति-रिवाजों से स्वागत किया। जिनपिंग के स्वागत के लिए की गई तैयारी ऐसी थी कि सातवीं सदी के भारत-चीन संबंधों की स्मृतियां ताजा हो गईं। शनिवार को दोनों नेताओं के बीच कुछ मुद्दों पर बात होने की संभावना है।

जयपुर
प्रधानमंत्री मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक बैठक के लिए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार दोपहर 2 बजे चेन्नई पहुंचे। एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया गया। शी के चेन्नई पहुंचने पर पीएम मोदी ने अंग्रेजी, तमिल और मंडारिन (चीन की बोलचाल की भाषा) में ट्वीट किया, 'भारत में आपका स्वागत है राष्ट्रपति जिनपिंग। दोनों शीर्ष नेताओं के स्वागत के लिए यहां के पंचरथ के पास एक बहुत बड़ा गेट बनाया गया था। इसे 18 प्रकार की सब्जियों और फलों का इस्तेमाल किया गया।

तट मंदिर का भ्रमण
पीएम नरेंद्र मोदी ने शी जिनपिंग के साथ तट मंदिर (शोर टेम्पल) समेत ऐतिहासिक इमारतों का भ्रमण किया। शोर मंदिर को यूनेस्को ने ऐतिहासिक इमारतों की सूची में रखा था।


पांच हजार जवान तैनात : मामल्लापुरम (महाबलीपुरम) में शनिवार को भी दोनों नेता मिलेंगे। कई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। चेन्नई से महाबलीपुरम तक 5 हजार जवान तैनात किए गए हैं। रास्तों और कार्यक्रम स्थल पर 800 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। भारतीय नौसेना और तटरक्षक बल ने समुद्र तट से कुछ दूरी पर युद्धपोत तैनात किए हैं।

चीन का महाबलीपुरम से पुराना नाता
महाबलीपुरम शहर चेन्नई से करीब 50 किमी दूर है। इसकी स्थापना धार्मिक उद्देश्यों से 7वीं सदी में पल्लव वंश के राजा नरसिंह वर्मन ने कराई थी। यहां शोध के दौरान चीन, फारस और रोम के प्राचीन सिक्के बड़ी संख्या में मिले हैं। प्राचीन बंदरगाह वाले महाबलीपुरम का करीब दो हजार साल पहले चीन के साथ खास संबंध था। यहां मिले पहली और दूसरी सदी के मिट्टी के बर्तन हमें चीन के समुद्री व्यापार की जानकारी देते हैं।

चीनी महिला ने की लापता भाई ढूंढऩे की अपील
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूर्वी चीन के जियांग्सु प्रांत की 71 वर्षीय महिला झू पिंगपिंग ने अपने सौतेले भारतीय भाई और उसके परिवार को ढूंढने की अपील की है।
महिला ने बताया कि उसके पास चीनी भाषा में नाम और कोलकाता के पते का एक पीला कागज है। झू ने कहा कि यह इस बात का सबूत है कि 1940 के दशक में उसके पिता का एक भारतीय परिवार भी था। झू के पिता जू कियॉन्ग 1940 के दशक में भारत और म्यांमार में युद्ध के दौरान तैनात थे और वे 1942-46 तक कोलकाता में रहे थे। कियॉन्ग ने इन वर्षों में भारतीय महिला से शादी की थी और इस महिला से कियॉन्ग को एक बेटा भी है।

दस बजे होगी द्विपक्षीय वार्ता
9.05 बजे जिनपिंग आइटीसी चोला से रवाना होंगे
9.50 बजे फिशरमैन कोव पहुंचेंगे
10.00 बजे से होगी एकल और सामूहिक वार्ता
12.4512.45 फिशरमैन कोव से हवाई अड्डा रवाना
1.25 हवाई अड्डा पहुंचेंगे
1.30 चीन के लिए भरेंगे उड़ान

नारियल पानी और टमाटर का रसम परोसा
पीएम मोदी ने जिनपिंग को तमिलनाडु की जायकेदार दावत दी। इसमें तमिलनाडु के कारैकुडी और चेट्टीनाडु व्यंजन शामिल थे। दावत में चीन के राष्ट्रपति को हाथ से पीसे मसाले का सांभर, टमाटर का रसम, चावल का बना विशेष हलवा भी परोसा गया। इससे पहले मोदी और जिनपिंग ने पंचरथ परिसर में नारियल पानी पीया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned