नेशनल डॉक्टर्स डे आज, डॉक्टर्स ने कहा आप साथ दें हम सब कोरोना को हरा देंगे

1 जुलाई को पूरे देश में डॉक्टर्स डे मनाया जा रहा है । डॉक्टर्स डे पर कोरोना मरीजों का इलाज कर रहें डॉक्टर्स ने कहा आप साथ दें हम सब कोरोना को हरा देंगे।

By: Kartik Sharma

Updated: 01 Jul 2020, 10:19 AM IST

National doctors day: जयपुर- 1 जुलाई को पूरे देश में डॉक्टर्स डे मनाया जा रहा है । ( Dctors day 2020) कोरोना जैसी महामारी से लड रहे पूरे विश्व को आज सबसे ज्यादा धरती के भगवान कहें जाने वाले इन डॉक्टर्स की जरूरत है । ( happy doctors day 2020 ) ये डॉक्टर ही है जो अपने आप को जोखिम में डाल हमें बचा रहें है। जब पूरे विश्व में कोरोना के कारण लाशो को अंबार लगा है उस दौरान भारत के इन डॉक्टरों का ही कमाल है की हमारे देश में संक्रमित मरीजों के मुकाबले कोरोना से होने वाले मौतों की संख्या बहुत कम है ।

इन डॉक्टरों की मेहनत हीं है कि राजस्थान में 78 प्रतिशत से अधिक मरीज कोरोना से ठीक हो चुके है । कोरोना संक्रमित लोगों को बचाने के दौरान कई डॉक्टर्स खुद भी संक्रमित हो गए लेकिन फिर भी हमे बचाने में लगे है । हमारे समाज में डॉक्टर्स को भगवान का दर्जा दिया गया है। गंभीर परिस्थियों में डॉक्टर्स लोगों की जान बचाकर उनके भगवान बन जाते हैं। डॉक्टर्स ना सिर्फ लोगों का इलाज करते हैं, बल्कि उनकी जान बचाने के लिए समर्पित होकर उनकी सेवा करते हैं। समाज में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने के साथ ही लगातार परिवर्तन लाने की कोशिश भी कर रहे हैं।

डॉक्टर्स ने कहा कोरोना से हम जीतेंगे
प्रदेश में कोरोना मरीजों का इलाज कर रहें डॉक्टर्स ने कहा कोरोना से हम जीतेंगे । सवाई मानसिंह अस्पताल के डॉ. अजीत सिंह शक्तावत ने कहा ये हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग टीम और अन्य चिकित्सा स्टाफ की मेहनत है की कोरोना के मामले में हमारी स्थिति काफी अच्छी है । संक्रमण को लेकर किसी को डरने की जरूरत नहीं है बस विभाग द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करें ।

महिला चिकित्सालय में संक्रमित महिलाओं का इलाज कर रहीं डॉ. शालिनी ने कहा महिलाओं को अपने घरों में मास्क, सैनिटाइजर से हाथ धोना आदि सावधानियों को अपनी दिनचर्या की आदत में शुमार करना होगा। हमने अस्पताल में आई संक्रमित महिलाओं में से 99 प्रतिशत महिलाओं को ठीक किया है इसलिए किसी को डरने की जरूरत नहीं । प्रेग्नेंट महिलाओं को थोड़ी अधिक सावधानी रखने की आवश्यकता है। बार-बार डॉक्टर को दिखाते रहें ।


इसलिए मनाते है डॉक्टर्स डे
एक जुलाई को भारत के मशहूर चिकित्सक डॉ. बिधान चन्द्र रॉय को श्रद्धांजलि देने के लिए ‘डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। राष्ट्रीय चिकित्सीय दिवस के रुप में हर वर्ष एक जुलाई को मनाए जाने के लिए 1991 में केन्द्र सरकार ने डॉक्टर दिवस की स्थापना की थी। भारत के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ बिधान चन्द्र रॉय को श्रद्धांजलि और सम्मान देने के लिए हर वर्ष एक जुलाई को उनकी जयंती और पुण्यतिथि पर इसे मनाया जाता है। डॉ बिधान चन्द्र रॉय को 4 फरवरी 1961 में उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया।

डॉक्टर्स डे पर डॉक्टरों ने भी यहीं संदेश दिया है कि वे हर संभव तरीके से उपचार कर मरीजों का निराश नहीं होने देंगे। इसी प्रकार मरीजों और उनके परिजनों को भी अपने व्यवहार से डॉक्टरों का दिल जीतना जरूरी है। सही मायने में तभी डॉक्टर्स और मरीजों के रिश्तों को मजबूती मिलेगी।

आज भी डॉक्टरों की भारी कमी
आबादी के लिहाज से राजस्थान में आज भी डॉक्टरों की भारी कमी है। राज्य में आज भी जरूरत के हिसाब से आधे डॉक्टर हीं है । जनसंख्या के अनुपात में वर्तमान में हर साल जितनी संख्या में डॉक्टर तैयार हो रहे हैं, उस मौजूदा रफ्तार को कम से कम चार गुना करने की जरूरत है। तभी हम 2035 तक वर्ल्ड हैल्थ ऑर्गेनाइजेशन के तय मानकों पर पहुंच सकते हैं।

COVID-19 virus
Kartik Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned