अश्वगंधा, त्रिफला और आंवला बुजुर्गों को बनाते हैं सेहतमंद

शिरोधारा, शिरोबस्ती, अभ्यंग, वमन, विरेचन आदि से शरीर का शुद्धिकरण होता है। उम्रदराज को नियमित ये उपचार डॉक्टरी सलाह से प्रयोग में लेने चाहिए।

By: Divya Sharma

Published: 26 Jul 2019, 01:14 PM IST

इस मौसम में वात दोष से बुजुर्गों शरीर का कमजोर होना स्वाभाविक है। जानें शरीर की रोग प्रतिरोधकता बढ़ाने के नुस्खे।
* पिसे अश्वगंधा की डेढ़ चम्मच मात्रा सुबह शाम दूध के साथ ले सकते हैं। संक्रमण से बचाव होगा।
* सूखा व पिसा आंवला १-१ चम्मच सुबह शाम गुनगुने पानी के साथ लें। इसके अलावा आंवले एक मुरब्बा भी खा सकते हैं।
* कब्ज में १-१ चम्मच पिसी हरड़ गुनगुने पानी के साथ सुबह-शाम लें।
* त्रिफला पाउडर की १-१ चम्मच की मात्रा सुबह शाम लें।

*४-५ पत्ते तुलसी और १-२ लौंग और काली मिर्च को एक गिलास पानी में उबालें, पानी आधा रहने पर ठंडा कर और छानकर पिएं, इम्युनिटी बढ़ेगी ।

*एक गिलास दूध में आधी चम्मच हल्दी पाउडर मिलकर पीने से भी फायदा होता है।

प्राकृतिक उपचार
शिरोधारा, शिरोबस्ती, अभ्यंग, वमन, विरेचन आदि से शरीर का शुद्धिकरण होता है। उम्रदराज को नियमित ये उपचार डॉक्टरी सलाह से प्रयोग में लेने चाहिए।

डॉ. राकेश कुमार शर्मा, एसोसिएट प्रोफेसर, शरीर रचना विभाग, डॉ. एसआर आयुर्वेद यूनिवर्सिटी, जोधपुर

Divya Sharma Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned