टूरिज्म सेक्टर के पुनर्निर्माण के लिए साथ मिलकर प्रयास करने की जरूरत : डोटासरा


राजस्थान पर्यटन : अवसर एवं संभावनाएं विषय पर वेबिनार
. राजस्थान टूरिज्म की ओर से फिक्की राजस्थान स्टेट काउंसिल के सहयोग से हुआ आयोजन

By: Rakhi Hajela

Published: 06 Apr 2021, 09:43 PM IST


जयपुर, 6 अप्रेल
कोविड .19 महामारी के कारण टूरिज्म सेक्टर को बड़ी क्षति हुई है। इस कठिन समय में टूरिज्म इंडस्ट्री के सभी स्टेकहोल्डर्स को साथ मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है। टूरिज्म डवलपमेंट फंड के तहत हाल ही में टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए की गई 500 करोड़ रुपए की बजट घोषणा, राज्य में इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण और नए टूरिज्म स्पॉट के विकास के द्वारा पर्यटन को पुनर्जीवित करने में मददगार साबित होगी। इस बजट में से 200 करोड़ रुपए मार्केटिंग और प्रमोशन के लिए अलग रखें गए हैं। यह कहना है पर्यटन मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का। जो राजस्थान टूरिज्म द्वारा फिक्की राजस्थान स्टेट काउंसिल के सहयोग से ‘राजस्थान पर्यटन : अवसर एवं संभावनाएं’ विषय पर आयोजित वेबिनार में संबोधित कर रहे थे।
सोशल मीडिया को दें बढ़ावा
उन्होंने कहा कि राजस्थान की समृद्ध संस्कृति, परंपरा और विरासत का उपयोग ग्रामीण पर्यटन के रूप में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए किया जाना चाहिए। इसे सोशल मीडिया के माध्यम से भी बढ़ावा देना चाहिए। हाल ही में आयोजित शेखावटी उत्सव का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि शेखावटी क्षेत्र में सालासर बालाजी और खाटूश्यामजी के साथ.साथ फोर्ट और बावडिय़ों जैसे पर्यटकों के लिए कई आकर्षण के केंद्र हैं। इस क्षेत्र को टूरिज्म सर्किट के रूप में विकसित किया जाएगा। डोटासरा ने राज्य में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए पर्यटकों की सुरक्षा और स्वच्छता की जरूरत पर जोर दिया।
फ्रंटलाइन वर्कर्स में शामिल करने की अपील
हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री के कर्मचारियों के टीकाकरण की आवश्यकता पर बात करते हुए फिक्की ट्रैवल टूरिज्म एंड हॉस्पिटेलिटी कमेटी की चेयरपर्सन डॉ.़ ज्योत्सना सूरी ने कहा कि कोविड में फिर से वृद्धि होने से टूरिज्म सेक्टर कमजोर पड़ रहा है और आने वाले अगले 2 सालों तक डोमेस्टिक टूरिज्म पर फोकस रखना होगा। उन्होंने मंत्री से अपील की कि होटल और रेस्टोरेंट के कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर्स के रूप में पहचान मिले और उनके टीकाकरण पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। टूरिज्म विभाग के निदेशक निशांत जैन ने अपने संबोधन में बताया कि पर्यटन नीति में ग्रामीण पर्यटन को प्राथमिकता पर रखा गया है और इसे उचित महत्व दिया गया है। उन्होंने ऐसे वेबिनार आयोजित करने के लिए फिक्की के प्रयासों की सराहना की,जो कि इंडस्ट्री के विभिन्न स्टेकहोल्डर्स को एक मंच पर साथ लाने और महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करने में मदद करते हैं।
वेडिंग टूरिज्म में आगे राजस्थान
इस अवसर पर फिक्की राजस्थान के को चेयरपर्सन और काउंसिल एंड प्रेसिडेंट आईएचएचए रणधीर विक्रम सिंह ने कहा किए डोमेस्टिक टूरिज्म कुंजी है और राजस्थान के पास इस सेक्टर में आगे बढऩे के लिए सभी आवश्यक सामग्री उपलब्ध है। राज्य वेडिंग टूरिज्म के क्षेत्र में सबसे आगे है। टूरिज्म को बढ़ाना देने के लिए वेलनेस टूरिज्म, एक्सपिरेंशियल टूरिज्म जैसे टूरिज्म के नए क्षेत्रों और स्टार्टअप्स की भूमिका को भुनाने की आवश्यकता है। एचआरएआर और आरएटीओ के प्रेसिडेंट कुलदीप सिंह चंदेला ने कहा कि पर्यटन क्षेत्र में 500 करोड़ रुपए के आवंटन के लिए टूरिज्म फ्रेटरनिटी मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करती है और यह टूरिज्म इंडस्ट्री को समग्र संवर्धन प्रदान करेगा। उन्होंने पर्यटन क्षेत्र को इंडस्ट्री का दर्जा देने की मांग भी दोहराई।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned