कोरोना संकट में भी छोटे कारोबारियों के लिए नए अवसर

मार्च में महामारी ( corona epidemic ) की शुरूआत के समय, कोई नहीं जानता था कि लोगों की खरीददारी करने का तरीका बिल्कूल बदल जाएगा, यहां तक कि देश के छोटे शहरों और गांवों के उपभोक्ता भी ऑनलाइन खरीददारी ( shopping online ) करने लगेंगे। आज लोगों ने नए डिजिटल तरीकों ( digital ) को अपनाया है, वे ऑनलाइन खरीददारी कर रहे हैं। संकट के इस दौर में, छोटे विक्रेताओं और कारोबारियों ( small traders ) के लिए भी नए अवसर उत्पन्न हुए हैं।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 16 Dec 2020, 06:46 PM IST

जयपुर। मार्च में महामारी की शुरूआत के समय, कोई नहीं जानता था कि लोगों की खरीददारी करने का तरीका बिल्कूल बदल जाएगा, यहां तक कि देश के छोटे शहरों और गांवों के उपभोक्ता भी ऑनलाइन खरीददारी करने लगेंगे। आज लोगों ने नए डिजिटल तरीकों को अपनाया है, वे ऑनलाइन खरीददारी कर रहे हैं। संकट के इस दौर में, छोटे विक्रेताओं और कारोबारियों के लिए भी नए अवसर उत्पन्न हुए हैं। जब शुरूआत में कोविड-19 लॉकडाउन के कारण छोटे कारोबारियों पर असर होने लगा तो स्नैपडील जैसे ऑनलाइन मार्केटप्लेस ने छोटे कारोबारों को सक्षम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उन्हें ऑनलाइन आने में पूरा सहयोग दिया।

5000 निर्माता-विक्रेता मेंं से ज्यादातर राजस्थान से
स्नैपडील स्थानीय निर्माताओं और विक्रेताओं के साथ मिलकर काम कर रहा है, उन्हें ऑनलाइन बिक्री के तरीकों पर जानकारी दे रहा है तथा देश के दूर-दराज के इलाकों में ज्यादा से ज्यादा उपभोक्ताओं के साथ जुडऩे में मदद कर रहा है। एक युवा उद्यमी शुभम चिप्पा का उदाहरण लीजिए, जिन्होंने स्नैपडील के साथ काम करते हुए अपने पिता के होम फर्नीशिंग उत्पादों के कारोबार को पूरी तरह से डिजिटल बना लिया, इस दौरान उन्होंने ऑर्डर प्रोसेसिंग, लिस्टिंग, असॉर्टमेन्ट एक्सपेंशन और सेल्स के बार में हर जानकारी हासिल की, जिससे उन्हें अपना कारोबार बढ़ाने में मदद मिली है। इस साल स्नैपडील के साथ 5000 निर्माता-विक्रेता जुड़े है, जिनमें से ज्यादातर राजस्थान से है, जिनकी अपनी प्रोडक्शन युनिट्स है और जो होम डेकोर आइटमों जैसे हैण्डीक्रॉफ्ट, क्रोकरी आइटम, चादरें, फैशन एक्सेसरीज जैसे ज्वैलरी तथा परिधानों जैसे किड्सवियर, साड़ी, ड्रैस मटीरियल की व्यापक रेंज बनाते हैं। वास्तव में स्नैैपडील ने बताया कि हाल ही में दीवाली सेल के दौरान राजस्थान को होम डेकोर आइटमों के सबसे ज्यादा ऑर्डर मिले, जिनमें प्रिन्टेड और कढ़ाई वाली चादरों के ऑर्डर सबसे ज्यादा किए गए।

विक्रेताओं एवं निर्माताओं के साथ मिलकर काम
हम छोटे नगरों और शहरों के विक्रेताओं एवं निर्माताओं के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। उनके द्वारा स्नैपडील के साथ जुडऩे का एक कारण यह है कि इससे उनकी इन्वेंटरी का प्रभावी उपयोग होता है। स्नैपडील पर निर्माता-विक्रेता सीधे खरीददारों को शिपिंग करते है, जिससे उनका स्टॉक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के गोदाम में अटका नहीं रहता। वैसे भी लॉकडाउन के दौरान पारम्परिक रीटेल एवं होलसेल चैनलों में आई रूकावटों के चलते, पहले से कई निर्माताओं का स्टॉक कई जगह अटका पड़ा है। स्नैपडील के माध्यम से ऑनलाइन बेचने से उनकी इन्वेंटरी जल्दी बिकती है और उनके संचालन में लिक्विडिटी बनी रहती है। रजनीश वाही, एसवीपीए स्नैपडील ने बताया। ऑनलाइन चैनलों पर बिक्री तेजी से बढऩे और बिक्री की सुगमता के कारण स्नैपडील निर्माताओं को कारोबार के नए तरीके अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। इसके अलावा, स्नैपडील के जरिए सीधे उपभोक्ताओं को सामान बेचने से निर्माताओं को अधिक मुनाफा मिलता है। विक्रेताओं का कारोबार बढ़ाने के लिए स्नैपडील ने पिछले 3 महीनों में कई पहलों को अंजाम दिया है। इनमें उपभोक्ताओं की पसंद के अनुसार एनालिटिकल इनपुट उपलब्ध कराना, विभिन्न कीमतों पर मांग में बढ़ोतरी तथा विक्रेताओं को अपनी बिक्री की योजना बनाने में मदद करने के लिए प्रतिस्पर्धी विश्लेषण शामिल है।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned