New Year 2020: ग्रहण के साए में रहेगा नया साल, लगेंगे छह ग्रहण

New Year 2020: लगेंगे दो सूर्य ग्रहण और चार चंद्रण ग्रहण
पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी को

By: SAVITA VYAS

Published: 06 Jan 2020, 01:10 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। साल 2020 यानी इस साल एक-दो नहीं... पूरे छह ग्रहण लगने वाले हैं। ग्रहण की शुरुआत इसी महीने यानि जनवरी से होने वाली है। पहला ग्रहण दस जनवरी को होगा जो कि चंद्र ग्रहण होगा और अंतिम ग्रहण 15 दिसंबर को सूर्य ग्रहण लगेगा। जी, हां इस साल 2 सूर्य ग्रहण व 4 चंद्र ग्रहण लगेंगे। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो ग्रहण से केवल प्रकृति पर फर्क नहीं पड़ता है, बल्कि मानव जाति पर भी इसका प्रभाव पड़ता है। सूर्य और चंद्रग्रहण का अलग-अलग राशियों पर अलग प्रभाव पड़ता है। राशि में ग्रहों की स्थिति के अनुसार ग्रहण अपना प्रभाव देते हैं।

इस साल चार बार चंद्रमा को ग्रहण लगेगा। पहला ग्रहण 10 जनवरी को होगा। चंद्र ग्रहण 10 जनवरी की रात में 10 बजकर 37 मिनट से शुरू होगा और 11 जनवरी को 2 बजकर 42 मिनट तक रहेगा। भारत, यूरोप, अफ्रीका, एशिया और आस्ट्रेलिया में देखा जाएगा। साल का दूसरा ग्रहण भी चंद्रग्रहण होगा। यह ग्रहण 5 जून को लगेगा। चंद्रग्रहण 5 जून की मध्य रात्रि को 11 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और 6 जून को 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 19 मिनट है। चंद्रग्रहण भारत, यूरोप, अफ्रीका, एशिया और आस्ट्रेलिया में देखा जाएगा। उसके बाद चंद्रग्रहण 5 जुलाई को लगेगा। चंद्रग्रहण 5 जुलाई की सुबह 08 बजकर 37 मिनट से शुरू होगा और 11 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 2 घंटे 45 मिनट है। हालांकि चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखेगा। उसके बाद चंद्रग्रहण 30 नवंबर को लगेगा। यह ग्रहण दोपहर को 13 बजकर 02 मिनट से शुरू होगा और शाम 17 बजकर 23 मिनट तक रहेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 4 घंटे 21 मिनट है। इसको भारत, अमेरिका, प्रशांत महासागर, एशिया और आस्ट्रेलिया में देखा जाएगा।

साल का पहला सूर्य ग्रहण-चंद्रग्रहण के कुछ दिन बाद 21 जून को लगेगा। सूर्यग्रहण 21 जून की सुबह 9 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और दोपहर 15 बजकर 03 मिनट तक रहेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे 48 मिनट है। इस ग्रहण को भारत, दक्षिण पूर्व यूरोप और एशिया में देखा जाएगा। उसके बाद साल का अंतिम ग्रहण सूर्य ग्रहण होगा। यह ग्रहण 14 दिसंबर को लगेगा। ग्रहण 14 दिसंबर की शाम को 19 बजकर 03 मिनट से शुरू होगा और 15 दिसंबर को 12 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे 19 मिनट है। यह सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखेगा।

ज्योतिषाचार्य पंडित राजकुमार चतुर्वेदी ने बताया कि ग्रहण काल में बहुत से काम वर्जित हैं, जो नहीं करने चाहिए। इनमें सबसे पहला और अहम कार्य का है ईश्वर की पूजा पाठ। सूतक काल से ही इसे बंद कर देना चाहिए और बाद में शुद्धि के बाद ही पूजा पाठ शुरु किया जाना चाहिए। ग्रहण में शुभ कार्य भी वर्जित माने गए हैं। ग्रहण में ईश्वर का मानसिक ध्यान और वंदन करना चाहिए, ताकि ग्रहण शुभ फल नहीं दे तो अशुभ फल भी नहीं दे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned