कोरोना इफेक्ट: पर्यटन मंत्रालय ने फंड रोका, कर्मचारी तक हटा दिए

-एक संविदाकर्मी का कार्यकाल बढ़ाया, 200 से अधिक कर्मचारी हटाए

By: Ashwani Kumar

Updated: 10 May 2020, 09:12 PM IST

फोलो अप...
अपनों पर मेहरबान आरटीडीसी के अधिकारी

जयपुर. राजस्थान पर्यटन विकास निगम की सांसों को घोंटने का काम उसके अधिकारी ही कर रहे हैं। एक तरफ अपनों पर मेहरबानी कर खुद ही निगम को आर्थिक नुकसान पहुंचा रहे हैं और दूसरी ओर कार्यरत संविदाकर्मियों को हटाकर आर्थिक स्थिति को सही करने का दावा किया जा रहा है। इसी बीच कोरोना की वजह से पर्यटन मंत्रालय ने पैलेस ऑन व्हील्स के सौंदर्यीकरण के लिए देने वाल फंड भी रोक दिया है।
निगम ने होटल-मोटल पर काम करने वाले 200 से अधिक संविदाकर्मियों को 30 अप्रेल को हटा दिया। संविदाकर्मियों को हटाने के पीछे अधिकारी निगम की आर्थिक स्थिति ठीक न होने का हवाला दे रहे हैं। वहीं, शाही ट्रेन के कंसल्टेंट मैनेजर प्रदीप बोहरा का कार्यकाल बढ़ाते चले गए। अभी ट्रेन का संचालन बंद है, उसके बाद भी उनके कार्यकाल को छह माह के लिए बढ़ा दिया गया। राजस्थान पत्रिका के पास ऐसे बिल भी हाथ लगे हैं, जिन पर बोहरा के हस्ताक्षर हैं। नियमों के मुताबिक कंसल्टेंट मैनेजर को सिर्फ शाही ट्रेन की ब्रान्डिंग और पर्यटकों की संख्या में इजाफा करने के लिए नियुक्त किया गया था।

बजट स्वीकृति का अब तक इंतजार
पिछले साल सितम्बर में ही पर्यटन मंत्रालय ने आरटीडीसी को पैलेस ऑन व्हील्स के सौंदर्यीकरण के लिए 7.86 करोड़ रुपए की स्वीकृति दे दी थी, लेकिन अब तक इसकी वित्तीय स्वीकृति नहीं मिल सकी है। इसके लिए निगम की ओर से कई बार प्रयास किए गए, लेकिन केंद्र से कोई जवाब नहीं मिला। फरवरी तक निगम अधिकारी मंत्रालय के सम्पर्क में रहे, लेकिन उसके बाद कोरोनावायरस की वजह से कोई जवाब नहीं मिला।

वर्जन...
पैलेस ऑन व्हील्स के सौंदर्यीकरण का प्रपोजल पर्यटन मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया था,लेकिन उसकी राशि अब तक जारी नहीं की है। दो-तीन बार बातचीत भी हुर्ह, उसके बाद लॉकडाउन होगा।
-भंवर लाल, एमडी आरटीडीसी

Ashwani Kumar Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned