अब नहीं चलेगा बहाना, देना होगा पानी के उपभोग का पूरा पैसा

अब नहीं चलेगा बहाना, देना होगा पानी के उपभोग का पूरा पैसा

Dinesh Saini | Publish: Sep, 27 2017 05:58:56 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

जलदाय विभाग को मिली मंजूरी, मानसरोवर समेत शहर के चार इलाकों में हाइटेक मीटर लगाने की कवायद शुरू...

जयपुर। मानसरोवर समेत शहर के चार इलाकों के पेयजल उपभोक्ताओं को आगामी महीनों में जल उपभोग पेटे ज्यादा राशि का भुगतान करना होगा। अब तक औसत जल उपभोग राशि का बिल भरने वाले उपभोक्ताओं के पेयजल कनेक्शनों पर जलदाय विभाग ने हाइटेक तकनीक वाले पानी मीटर लगाने की कवायद शुरू कर दी है। मानसरोवर, बनीपार्क, चित्रकूट और जवाहर नगर के चिह्नित इलाकों में विभाग एनआरडब्ल्यू स्टडी के लिए पानी कनेक्शनों को हाइटेक तकनीक वाले मीटर से लैस करेगा।

 

जलदाय विभाग को मिली मंजूरी

 

विभाग के जयपुर रीजन द्वितीय अतिरिक्त मुख्य अभियंता आरसी मीणा ने बताया कि एनआरडब्ल्यू स्टडी के लिए मानसरोवर के सेक्टर एक के पेयजल कनेक्शनों में हाइटेक पानी मीटर लगाने की कार्रवाई शुरू की गई है।

 

यह भी पढें : प्रदेश में पंचायत उपचुनाव में सत्ताधारी सरकार की किरकिरी, कांग्रेस ने जीत के साथ बजाया भाजपा को उखाड़ फैंकने का बिगुल

 

मीटर लगाने वाली फर्म ही अगले सात साल तक मीटरों का रखरवाव भी करेगी। स्टडी में पानी मीटर के माध्यम से पेयजल कनेक्शनों से होने वाले वास्तविक जल उपभोग की स्थिति का आंकलन किया जाएगा। पायलट प्रोजेक्ट रिपोर्ट के आधार पर पूरे शहर में नई तकनीक वाले पानी मीटर लगाने की योजना पर निर्णय लिया जाएगा।

 

 

बंद मीटरों को भी बदलने की योजना पर होगा निर्णय
विभाग के अनुसार मानसरोवर के सेक्टर एक के कुछ इलाकों में अब तक चल रहे चौबीस घंटे जलापूर्ति पायलट प्रोजेक्ट को भी एनआरडब्ल्यू स्टडी में शामिल किया गया है और सेक्टर एक के करीब सवा सौ पेयजल उपभोक्ताओं को अब तक चौबीस घंटे मिलने वाली सरकारी जलापूर्ति को बंद कर केवल रूटीन समय में ही पेयजल सप्लाई से जोड़ा जा रहा है। शहर के चारों इलाकों की एनआरडब्ल्यू स्टडी रिपोर्ट की समीक्षा के बाद पूरे शहर में बंद पड़े करीब सवा सौ से ज्यादा पानी मीटरों को भी बदलने की योजना पर निर्णय होगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned